Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

आज तो ठान लिया है

आज तो ठान लिया है
तेरे दर से मौला
मुरादों की झोली
भर के उठेंगे

60 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from shabina. Naaz

You may also like:
अलाव
अलाव
Surinder blackpen
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
रिहायी कि इमरती
रिहायी कि इमरती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
करीम तू ही बता
करीम तू ही बता
Satish Srijan
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
सफर
सफर
Arti Bhadauria
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
राह से भटके लोग अक्सर सही राह बता जाते हैँ
DEVESH KUMAR PANDEY
इतिहास और साहित्य
इतिहास और साहित्य
Buddha Prakash
विचारमंच भाग -5
विचारमंच भाग -5
Rohit Kaushik
Things to learn .
Things to learn .
Nishant prakhar
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Sakshi Tripathi
हम दो अंजाने
हम दो अंजाने
Kavita Chouhan
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
*नदी नहीं है केवल गंगा, देवलोक का गान है (गीत)*
*नदी नहीं है केवल गंगा, देवलोक का गान है (गीत)*
Ravi Prakash
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
कई राज मेरे मन में कैद में है
कई राज मेरे मन में कैद में है
कवि दीपक बवेजा
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
Shashi kala vyas
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
Rohit yadav
ज़िंदा लाल
ज़िंदा लाल
Shekhar Chandra Mitra
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
💐प्रेम कौतुक-241💐
💐प्रेम कौतुक-241💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग्रीष्मकाल के दौर में
ग्रीष्मकाल के दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
कनि हँसियाै ने सजनी kani hasiyo ne sajni lyrics
कनि हँसियाै ने सजनी kani hasiyo ne sajni lyrics
Music Maithili
जिंदगी क्या है?
जिंदगी क्या है?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
Loading...