Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 27, 2022 · 1 min read

आज तिलिस्म टूट गया….

मानो एक समय से थी मैं
एक तिलिस्म के घेरे में ।
जहां सारी दुनिया मेरी थी
आंखों में स्वप्न घनेरे थे ।
पूरा सा था मेरा जीवन
रिश्तों में बंधा हुआ था मन ।
पर तिलिस्म अब टूट गया
हाथों से मुक्तक छूट गया ।
स्वप्न हुए निर्वासित सब
हृदय टूट कर बिलखा जब I
क्या अब तक जो था सब भ्रम था ?
झूठा सारा जड़ जंगम था ।
अब नयन मूंद रहना भ्रम में
साहस न जाऊं धरातल में ।
जड़ जीवन का स्पन्दन था
वो भ्रम ही सही सर्वोत्तम था ।

99 Views
You may also like:
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ख्वाब
Swami Ganganiya
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
आजमाइशें।
Taj Mohammad
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार का अलख
DESH RAJ
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
कुरान की आयत।
Taj Mohammad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
सच तो यह है
gurudeenverma198
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
मत करना
dks.lhp
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...