Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

आज कुछ ऐसी कलमकारी हुई

आज कुछ ऐसी कलमकारी हुई
ये ग़ज़ल तो प्यार से प्यारी हुई

मुज़रिमों में कर लिया शामिल हमें
भूल हमसे तो न कुछ भारी हुई

फिर फ़लक पर छा गई हैं बदलियां
रिमझिमी बरसात की बारी हुई

ज़ख़्म सीने का दिखा पाये नहीं
बात यूँ तुमसे बहुत सारी हुई

फूँक कर पीने लगे हम छाछ भी
दूध से जलने की’ बीमारी हुई

जल उठे दिल के हजारों दाग कल
दुश्मन-ए-जां एक चिंगारी हुई

राकेश दुबे “गुलशन”
23/07/2016
बरेली

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 332 Views
You may also like:
निज सुरक्षित भावी
AMRESH KUMAR VERMA
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इक सनम चाहतें हैं।
Taj Mohammad
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
#मोहब्बत मेरी
Seema 'Tu hai na'
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
★ जो मज़ा तेरी कातिल नजरों के नजारों में है।...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ओ मेरे हमदर्द
gurudeenverma198
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
ऊपरी इनकम पर आनलाईन के दुष्प्रभाव(व्यंग )
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दशानन
जगदीश शर्मा सहज
गद्दार
Shekhar Chandra Mitra
*सपना देखो हिंदी गूँजे अपने हिंदुस्तान में (गीत)*
Ravi Prakash
धार छंद "आज की दशा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तिरंगा लगाना तो सीखो
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
झूला सजा दो
Buddha Prakash
बुलबुला
मनोज शर्मा
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे बहादुर पिता
shabina. Naaz
Loading...