Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 22, 2022 · 2 min read

आज की नारी हूँ

युग बदला ,
अब मैं भी बदल गई हूँ।
मैं आज की नारी हूँ।
स्वाभिमान से जीने लगी हूँ।

पुरुषो के कदम से कदम
मिलाकर चलने लगी हूँ।
अब मैं भी कंधो का भार
बराबर उठाने लगी हूँ।

अब मैं भी अपने पैरों
पर खड़ी हो गई हूँ।
अब कहाँ मैं घर तक
सिर्फ सीमित रह गई हूँ।

तोड़ चली सारी जंजीरे
आगे मैं बढ़ चली हूँ।
अब कहाँ पीछे मुड़कर
फिर मैं देखने वाली हूँ।

अब कहाँ मैं फिर से
थमने वाली हूँ ।
अब कहाँ मैं फिर से
रूकने वाली हूँ।

अब कहाँ मैं किसी के
आगे झुकने वाली हूँ।
अब कहाँ मैं फिर से
पीछे हटने वाली हूँ।

अब मैं कहाँ किसी पुरुष
से पीछे रह गई हूँ।
कौन सा ऐसा काम हैं
जो मैं ना कर रही हूँ।

अब मैं भी सीमा पर
डटकर खड़ी रहती हूँ।
आए कोई दुश्मन अगर
उसका सर धर से अलग कर देती हूँ।

अब कहाँ किसी से मैं
डर – डरकर जीती रहती हूँ।
अब मैं डटकर हर चीजों का
मुकाबला करती हूँ।

सिर्फ मुक़ाबला ही नही करती
जितती भी हूँ मैं।
अब सब कुछ मैं अपने
दम पर करती हूँ।

अब मैं भी सड़कों पर
गाड़ी दौड़ाती हूँ।
कार ,बस ,ट्रक और ट्रेन
तक को मैं चलाती हूँ।

अब हवा के साथ मैं भी
उड़ती -फिरती हूँ।
कोई भी ऐसा वायुयान नही
जो मैं नही उड़ाती हूँ।

कोई भी ऐसा काम नहीं
जो मैं नही कर पाती हूँ।
कोई ऐसा क्षेत्र नही,
जहाँ मैं नही अब होती हूँ।

बड़े-बड़े फैक्टरियों को
अब मैं चलाने लगी हूँ।
सिर्फ चलाने ही नही
उसको दौड़ाने भी लगी हूँ।

ज्ञान के क्षेत्र में भी अपना
नाम बनाने मैं लगी हूँ।
डॉक्टर, इन्जीनियर, आई•ए•एस•
तक का पद पाने मैं लगी हूँ।

खेल की दुनियाँ में भी हमने
अपना झंडा गाड़ दिया है।
अब कहाँ हम घर में
छुप कर बैठने वाले हैं।

अब अंतरिक्ष में भी
मैं जाने लगी हूँ ।
आसमान की ऊंचाई
को भी नापने लगी हूँ।

अब मैने भी अपना
पहचान बना लिया है।
शान के साथ जीना
मैनें भी सीख लिया है।

पुरुषो से कंधा मिलाकर
मैं भी काम कर रही हूँ।
अब मैं भी अपना नाम
बना रही हूँ।

खुशी इस बात की हैं हमे कि
मैं अपना अबला रूप मिटाने लगी हूँ।
अब अपना परचम
मैं भी लहराने लगी हूँ।
मैं आज की नारी हूँ।

-अनामिका

5 Likes · 4 Comments · 74 Views
You may also like:
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
पिता
Ram Krishan Rastogi
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
✍️✍️दोस्त✍️✍️
"अशांत" शेखर
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
दया***
Prabhavari Jha
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Feel it and see that
Taj Mohammad
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
"अशांत" शेखर
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
Apology
Mahesh Ojha
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
My eyes look for you.
Taj Mohammad
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...