Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 2 min read

आज की नारी हूँ

युग बदला ,
अब मैं भी बदल गई हूँ।
मैं आज की नारी हूँ।
स्वाभिमान से जीने लगी हूँ।

पुरुषो के कदम से कदम
मिलाकर चलने लगी हूँ।
अब मैं भी कंधो का भार
बराबर उठाने लगी हूँ।

अब मैं भी अपने पैरों
पर खड़ी हो गई हूँ।
अब कहाँ मैं घर तक
सिर्फ सीमित रह गई हूँ।

तोड़ चली सारी जंजीरे
आगे मैं बढ़ चली हूँ।
अब कहाँ पीछे मुड़कर
फिर मैं देखने वाली हूँ।

अब कहाँ मैं फिर से
थमने वाली हूँ ।
अब कहाँ मैं फिर से
रूकने वाली हूँ।

अब कहाँ मैं किसी के
आगे झुकने वाली हूँ।
अब कहाँ मैं फिर से
पीछे हटने वाली हूँ।

अब मैं कहाँ किसी पुरुष
से पीछे रह गई हूँ।
कौन सा ऐसा काम हैं
जो मैं ना कर रही हूँ।

अब मैं भी सीमा पर
डटकर खड़ी रहती हूँ।
आए कोई दुश्मन अगर
उसका सर धर से अलग कर देती हूँ।

अब कहाँ किसी से मैं
डर – डरकर जीती रहती हूँ।
अब मैं डटकर हर चीजों का
मुकाबला करती हूँ।

सिर्फ मुक़ाबला ही नही करती
जितती भी हूँ मैं।
अब सब कुछ मैं अपने
दम पर करती हूँ।

अब मैं भी सड़कों पर
गाड़ी दौड़ाती हूँ।
कार ,बस ,ट्रक और ट्रेन
तक को मैं चलाती हूँ।

अब हवा के साथ मैं भी
उड़ती -फिरती हूँ।
कोई भी ऐसा वायुयान नही
जो मैं नही उड़ाती हूँ।

कोई भी ऐसा काम नहीं
जो मैं नही कर पाती हूँ।
कोई ऐसा क्षेत्र नही,
जहाँ मैं नही अब होती हूँ।

बड़े-बड़े फैक्टरियों को
अब मैं चलाने लगी हूँ।
सिर्फ चलाने ही नही
उसको दौड़ाने भी लगी हूँ।

ज्ञान के क्षेत्र में भी अपना
नाम बनाने मैं लगी हूँ।
डॉक्टर, इन्जीनियर, आई•ए•एस•
तक का पद पाने मैं लगी हूँ।

खेल की दुनियाँ में भी हमने
अपना झंडा गाड़ दिया है।
अब कहाँ हम घर में
छुप कर बैठने वाले हैं।

अब अंतरिक्ष में भी
मैं जाने लगी हूँ ।
आसमान की ऊंचाई
को भी नापने लगी हूँ।

अब मैने भी अपना
पहचान बना लिया है।
शान के साथ जीना
मैनें भी सीख लिया है।

पुरुषो से कंधा मिलाकर
मैं भी काम कर रही हूँ।
अब मैं भी अपना नाम
बना रही हूँ।

खुशी इस बात की हैं हमे कि
मैं अपना अबला रूप मिटाने लगी हूँ।
अब अपना परचम
मैं भी लहराने लगी हूँ।
मैं आज की नारी हूँ।

-अनामिका

Language: Hindi
Tag: कविता
5 Likes · 4 Comments · 234 Views
You may also like:
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
वक़्त की गर्द में गुम हो के ।
Dr fauzia Naseem shad
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
संविधान की शपथ
मनोज कर्ण
*प्रिय सावन में मतवाली (गीतिका)*
Ravi Prakash
देव भूमि - हिमान्चल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्यों हो इतने हताश
Kaur Surinder
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
माँ के आँचल में छुप जाना
Dr Archana Gupta
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
💐💐मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुर्गा मां से प्रार्थना
Dr.sima
सौदागर
पीयूष धामी
“ सबकेँ स्वागत “
DrLakshman Jha Parimal
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
औकात।
Taj Mohammad
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
नेताजी कहिन
Shekhar Chandra Mitra
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
■ मेरे एक प्रेरक "चार्ली"
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...