Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

आज का नवयुवक

आज का नवयुवक

अजीब हाल में दिखता आज का नवयुवक
जागा है मगर कुछ खोया खोया सा
हँसता है पर कुछ रोया-रोया सा
जीवन संघर्ष की इस दौड़ में
जा रहा किस डगर
नही खुद को भी खबर

बस चलता जाता है
सुनसान सा, अनजान सा
अज्ञान सा बेजान, बेजुबान सा
खो गया है मंजिल अपनी
हुआ जाता है पथ भ्रष्ट भी

उत्थान की इस चकाचौंध में
सिमट कर रह गया मोबाइल की ओट में
खो रहा पहचान अपनी
पाश्चात्य संस्कृति की होड़ में

सम्भलो मेरे नौजवानो के वक्त अभी बाकी है
दुनिया को अपना कौशल दिखाना अभी बाकि है
घर से लेकर देश तक संभालना अभी बाकी है
करो पथ प्रदर्शित के गर्व से चलना अभी बाकी है

—-ःः डी. के. निवतियाँ ःः———

151 Views
You may also like:
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
Green Trees
Buddha Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता
Mamta Rani
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
Keshi Gupta
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...