Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2022 · 1 min read

ज़रा सी बात पर ghazal by Vinit Singh Shayar

आज आँखें हुई हैं नम ज़रा सी बात पर
मुझसे रूठा मेरा सनम ज़रा सी बात पर

मेरी बातों पर ऐतबार नहीं अब उनको
आज खाना पड़ा कसम ज़रा सी बात पर

मेरी हालत का नहीं मुझे कोई अंदाज़ा
और भटका हुआ है मन ज़रा सी बात पर

बहते आँसू को भला मैं रोक दूँ कैसे
हुई सीने में है जलन ज़रा सी बात पर

हक़ीम आज ही नहीं काम के कब थे
हुआ नाकाम है मरहम ज़रा सी बात पर

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

Language: Hindi
Tag: ग़ज़ल
1 Like · 130 Views
You may also like:
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
आत्मसम्मान
आत्मसम्मान
Versha Varshney
भूख (मैथिली काव्य)
भूख (मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
ऐनक
ऐनक
Buddha Prakash
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
फाग (बुंदेली गीत)
फाग (बुंदेली गीत)
umesh mehra
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
Winning
Winning
Dr Rajiv
बुंदेली दोहा:-
बुंदेली दोहा:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मजबूर दिल की ये आरजू
मजबूर दिल की ये आरजू
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी खर्च हो रही है।
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
ससुरा में जान
ससुरा में जान
Shekhar Chandra Mitra
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
लड़खड़ाने से न डर
लड़खड़ाने से न डर
Satish Srijan
बड़े शत्रु को मार अकड़ना अच्छा लगता है (हिंदी गजल/गीतिका)
बड़े शत्रु को मार अकड़ना अच्छा लगता है (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
महामना मदन मोहन मालवीय
महामना मदन मोहन मालवीय
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" मुस्कराना सीख लो "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
चल सजना प्रेम की नगरी
चल सजना प्रेम की नगरी
Sunita jauhari
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
gurudeenverma198
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐प्रेम कौतुक-478💐
💐प्रेम कौतुक-478💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️सफलता के लिए...
✍️सफलता के लिए...
'अशांत' शेखर
"छठ की बात"
पंकज कुमार कर्ण
कवित्त
कवित्त
Varun Singh Gautam
YOG KIJIYE SWASTHY LIJIYE
YOG KIJIYE SWASTHY LIJIYE
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...