Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author
Apr 26, 2022 · 1 min read

आज असंवेदनाओं का संसार देखा।

असंवेदनाओं का नज़ारा बरकरार देखा,
मानवता को, बेसहारा हर बार देखा।
उन आँखों में बस तथ्य एवं तर्क की तलवार देखा,
बेबसी की चीखों को कफ़न के पार देखा।
उसने आज की परिस्थितियों में अतीत का सार देखा,
एवं आज के जख्मों पर एक और प्रहार देखा।
जीवन को अग्रसर होने से पूर्व, पीछे खींचती तार देखा,
मनोबल को तोड़ने का प्रयास हर एक बार देखा।
हर गलती की जिम्मेवारी में एक हीं, सर का भार देखा,
और सुखद भविष्य की आश में जलता हुआ संसार देखा।
अपने आँसुओं में बस नमकीन पानी की बौछार देखा,
हृदय की असहज गति एवं टूटती साँसों में तकरार देखा।
अपने दर्द में दुनिया का व्यापार देखा,
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।

1 Like · 93 Views
You may also like:
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धन्य है पिता
Anil Kumar
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
आया आषाढ़
श्री रमण
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
मां
हरीश सुवासिया
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
Loading...