Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2022 · 1 min read

“आजादी महोत्सव”

“आजादी महोत्सव”

जहां बरसता है अमृत
वह माटी हिंदुस्तान की।
इसके लिए प्राण अर्पण हैं
शपथ हमें भगवान की।।

स्वतंत्रता के महाउत्सव में
अपना है गणतंत्र निराला।
सभी वर्ग के धर्मों का
प्रेम रस का है यह प्याला।।

भीमराव अंबेडकर
महानायक संविधान का।
ऊँच- नीच का भेद मिटाया
सत्ता के अभिमान का।।

सत्य सनातन संस्कारों की
पहन लंगोटिया गांधी ने।।
आजादी का बिगुल बजाया
हार मान ली आंधी ने।।

आंधी थी जो दमनचक्र की
अंग्रेजी साम्राज्य में ।
काला पन्ना इतिहास का
फाड़ा हमने रामराज्य में।।

लोकतंत्र के पहरेदारों
जागे रहो, जगाते रहो ।
आजादी के 75 वर्षों का
परिवर्धन करते रहो।।

जो सोने की चिड़िया थी
आज विकास में पलती है।
पूर्णतः विकसित होगी एकदिन
यह बात पड़ोसी को खलती है।।

आंख गड़ाए बैठे दुश्मन
चहुर दिशा सीमाओं पर।
चौकन्ना रहना होगा हमें
स्वाबलंबी भुजाओं पर ।।

वीरों के बलिदानों से
अमृतमहोत्सव मना रहे ।
त्याग, तपस्या, भाईचारा
देवभूमि पर बना रहे।।

स्वरचित
डॉ. रेखा सक्सेना।
मौलिक, अप्रकाशित

Language: Hindi
Tag: कविता
279 Views
You may also like:
कहाँ लिखता है
कहाँ लिखता है
Mahendra Narayan
आती है लाज
आती है लाज
Shekhar Chandra Mitra
चिलचिलती धूप
चिलचिलती धूप
Nishant prakhar
ਧੱਕੇ
ਧੱਕੇ
Surinder blackpen
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का झटकना
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का...
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"सुख"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसा अगर नहीं होता
ऐसा अगर नहीं होता
gurudeenverma198
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
💐अज्ञात के प्रति-42💐
💐अज्ञात के प्रति-42💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Success_Your_Goal
Success_Your_Goal
Manoj Kushwaha PS
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इश्क मुकम्मल करके निकला
इश्क मुकम्मल करके निकला
कवि दीपक बवेजा
तुमने दिल का
तुमने दिल का
Dr fauzia Naseem shad
"यादें अलवर की"
Dr Meenu Poonia
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आज की जेनरेशन
आज की जेनरेशन
ruby kumari
*पुराना शहर (पाँच दोहे)*
*पुराना शहर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
■ बातों-बातों में...
■ बातों-बातों में...
*Author प्रणय प्रभात*
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
चुनाव आते ही....?
चुनाव आते ही....?
Dushyant Kumar
” READING IS ESSENTIAL FOR KNOWLEDGE “
” READING IS ESSENTIAL FOR KNOWLEDGE “
DrLakshman Jha Parimal
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिन रात।
दिन रात।
Taj Mohammad
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
Buddha Prakash
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
मत भूलो देशवासियों.!
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...