Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2021 · 1 min read

आजादी का जश्न

आजादी का जश्न, नहीं आसान,
सैकड़ों का इसमें, है बलिदान ।
लटके जो चूमके,फांसी का फंदा,
उन्हीं में बसे, मां भारती के प्राण।।
जय हिन्द।
(रचनाकार कवि – डॉ शिव लहरी)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 296 Views

Books from डॉ. शिव लहरी

You may also like:
*रिटायरमेंट  : कुछ विचार  (हास्य व्यंग्य)*
*रिटायरमेंट : कुछ विचार (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
एक आश विश्वास
एक आश विश्वास
Satish Srijan
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
अनूप अम्बर
शेर
शेर
Rajiv Vishal
Unlock your dreams
Unlock your dreams
Nupur Pathak
ज़रूरी था
ज़रूरी था
Shivkumar Bilagrami
💐अज्ञात के प्रति-5💐
💐अज्ञात के प्रति-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जहाँ भी जाता हूँ ख्वाहिशों का पुलिंदा साथ लिए चलता हूँ,
जहाँ भी जाता हूँ ख्वाहिशों का पुलिंदा साथ लिए चलता...
Dr Rajiv
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
कसम खुदा की
कसम खुदा की
gurudeenverma198
प्रणय-बंध
प्रणय-बंध
Rashmi Sanjay
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️जन्मदिन✍️
✍️जन्मदिन✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
प्रथम अभिव्यक्ति
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
पहला प्यार
पहला प्यार
Pratibha Kumari
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
2241.💥सबकुछ खतम 💥
2241.💥सबकुछ खतम 💥
Khedu Bharti "Satyesh"
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
गुजरात माडल ध्वस्त
गुजरात माडल ध्वस्त
Shekhar Chandra Mitra
मुहब्बत की बातें।
मुहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
हास्य गजल
हास्य गजल
Sandeep Albela
भगत सिंह ; जेल डायरी
भगत सिंह ; जेल डायरी
Gouri tiwari
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
■ सब त्रिकालदर्शी
■ सब त्रिकालदर्शी
*Author प्रणय प्रभात*
मैं धरा सी
मैं धरा सी
Surinder blackpen
Loading...