Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2020 · 1 min read

आग लगे मेरे जी को

आग लगे मेरे जी को
भूख से जी अकुलाता है
नमक – भात के बात पे
जनावर मुझ को बनता है।

आग लगे मेरे जी को
कुछ अब न सुहाता है
बेद कुरान की बातों से
दिल मेरा खूब झल्लाता है

आग लगे मेरे जी को
भजन, अजान भी जुमला लगता है
राम रहीम कहां मुझ को
दो कोर भात खिला कर जाता है

आग लगे मेरे जी को
रजिया राधा में मुझको
अपना आप झलकता है
दिल का दर्द बहे कहीं भी
आंख मेरी नम कर जाता है

आग लगे मेरे जी को
पनघट मरघट सा दिखता है
कब्रिस्तान समसान में ही अब
अपना घर मुझ को दिखता है

आग लगे मेरे जी को
सच का मुंह बेढंगा दिखता है
चांद उतरे जो नील गगन से
आंगन में मेरे वो भी बदरंगा है

आग लगे मेरे जी को
राम और रावण दिखे एक जैसा
एक ने छल से नार हरी
एक के छल से जंगल बिच आन खड़ी
एक ने साधु वेश धरा
एक ने मर्यादा का स्वांग भरा
~ सिद्धार्थ

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 235 Views

Books from Mugdha shiddharth

You may also like:
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
कवि दीपक बवेजा
प्रोत्साहन
प्रोत्साहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई उम्मीद
कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
मृत्यु
मृत्यु
अमित कुमार
छठ है आया
छठ है आया
Kavita Chouhan
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
Taj Mohammad
अल्लादीन का चिराग़
अल्लादीन का चिराग़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोस्ती और कर्ण
दोस्ती और कर्ण
मनोज कर्ण
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
कर्मण्य
कर्मण्य
Shyam Pandey
✍️क्या ये सच नही..?
✍️क्या ये सच नही..?
'अशांत' शेखर
विरहन
विरहन
umesh mehra
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने वालें कुछ योद्धा
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने...
Pravesh Shinde
जिंदगी की धुंध में कुछ भी नुमाया नहीं।
जिंदगी की धुंध में कुछ भी नुमाया नहीं।
Surinder blackpen
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
*बुंदेली दोहा बिषय- डेकची*
*बुंदेली दोहा बिषय- डेकची*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐प्रेम कौतुक-398💐
💐प्रेम कौतुक-398💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तल्ख
तल्ख
shabina. Naaz
।#कविता
।#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
***
*** " वक़्त : ठहर जरा.. साथ चलते हैं....! "...
VEDANTA PATEL
मेरा कलाम
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
एक होशियार पति!
एक होशियार पति!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*ऋषिकेश यात्रा 16 ,17 ,18 अप्रैल 2022*
*ऋषिकेश यात्रा 16 ,17 ,18 अप्रैल 2022*
Ravi Prakash
दोस्ती -ईश्वर का रूप
दोस्ती -ईश्वर का रूप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"प्यासा"प्यासा ही चला, मिटा न मन का प्यास ।
Vijay kumar Pandey
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...