Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

आग लगा जो स्वार्थी, रहे रोटियां सेंक …: दोहे

समसामयिक दोहे:

गर्म खून को देखकर, रक्त हो गया गर्म.
आग बना जो दें हवा, वे कितने बेशर्म..

मारपीट अति क्रूरता, अच्छा नहीं जूनून.
न्याय व्यवस्था है अभी, कायम है क़ानून..

उसे कहें इंसान क्या? गाय रहा जो मार.
पशुओं के भी साथ हो, न्यायोचित व्यवहार..

सी० बी० आई० जांच के, अब आदेश प्रचंड.
जो भी दोषी हैं यहाँ, उन्हें मिलेगा दंड..

बसें जलाते क्यों यहाँ, हानि हुई अतिरेक.
राजनीति के स्वार्थ में, खोयें नहीं विवेक..

आग लगा जो स्वार्थी, रहे रोटियां सेंक.
उनको यही सलाह है, कार्य करें कुछ नेक..

गो हत्यारे थे सभी, दिखते जो मासूम.
रपट कह रही लैब की, गयी दादरी घूम..

राजनीति जो कर रहे, ओढ़े उजली खाल.
वही धुले हैं दूध के अंदर काला माल..

नफरत से हों दूरियां, दोहों का यह सार.
मित्र करें सत्कर्म ही, सदा मिलेगा प्यार..

सप्रेम…
–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

202 Views
You may also like:
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
✍️पैरो तले ज़मी✍️
"अशांत" शेखर
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
शेर
dks.lhp
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
Loading...