“आग मेरी अर्थी में लगाने से पहले”

सोचो जरा दिल लगाने से पहले!
मिटा तो ना दोगे बनाने से पहले!!
कहीं कल तुमको ना याद रहूं मैं,
देखो मुझे घूँघट गिराने से पहले !
घुमा लाओ यारों उनकी गली में,
आग मेरी अर्थी में लगाने से पहले !
“श्री” तुमको हर खुशी देकर रहेगा,
छोडकर जहां तेरा जाने से पहले !

151 Views
You may also like:
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
यादें
Sidhant Sharma
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Angad tiwari
Angad Tiwari
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोंच समझ....
Dr. Alpa H.
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं
Saraswati Bajpai
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
ईद
Khushboo Khatoon
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H.
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
Loading...