Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#26 Trending Author
Mar 22, 2022 · 1 min read

हिंसा की आग 🔥

हिंसा की आग 🔥
~~°~~°~~°
जब विजयादशमी के मेले लगते हैं,
तो दशमुख के पुतले जलते हैं।
पर देखो बीरभूम बंगाल की धरती,
एक-एक कर दस मुख इंसानों के,
धधक धधक जिंदा जलते हैं ।
फूंक दिया घर, जन के संग ही ,
महिलायें,बच्चे भी जिंदा जल गए।
पुतले नहीं जीवित मानव ये ,
धू धू कर क्यों जिंदा जलते हैं ।

आग आग खेलो,
ये खेला होबे वाली धरती है।
आयी है तालिबान संस्कृति,
शर्मसार मानवता लायी है।
आपदा विपदा नहीं है ये तो।
सोची समझी साजिश है।
भयग्रस्त करो इतना धरती को,
परिन्दे तुरंत ठिकाने बदले।
मौन प्रशासन देख रहा है,
अपराधी पुलिस गठजोड़ वहाँ है।
अब भी यदि संभले नहीं हम तो,
ईस्ट बंगाल जैसे पाकिस्तान बना था,
वैसे ही वेस्ट बंगाल बांग्लादेश बनेगा।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २२/०३ /२०२२
चैत ,कृष्ण पक्ष,चतुर्थी ,मंगलवार।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

2 Likes · 392 Views
You may also like:
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
मन की उलझने
Aditya Prakash
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
'अशांत' शेखर
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
बग़ावत
Shyam Sundar Subramanian
किताब।
Amber Srivastava
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
💐अस्माकं प्रापणीयं तत्व: .....….....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️निज़ाम✍️
'अशांत' शेखर
Loading...