#2 Trending Author
May 14, 2022 · 1 min read

आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं

आकर मेरे ख्वाबों में,पर वे कहते कुछ नहीं।
नींद उड़ाकर ले जाते है,हम कहते कुछ नही।।

सारी उमरिया बीत गई,अब करे क्या हम।
दो चार घड़ी के लिए आते,करते कुछ नही।।

मर मर के जी रहे हम,उनके इंतजार में।
लुटाया सब कुछ मैने,पर देते मुझे कुछ नहीं।।

वफ़ा करते रहे सदा हम,वे बेवफा ही रहे।
ऊपर वाला भी उनको सज़ा देता कुछ नही।।

कैसे कटेगी ये जिंदगी ये समझ में नहीं आता।
समझाती हूं हर तरह से,वे समझते कुछ नहीं।।

छोड़ कर जा रही हूं दुनिया,मेरा आखरी वक्त है।।
कहने को तो बहुत कुछ है ,पर कहती कुछ नही।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

4 Likes · 5 Comments · 111 Views
You may also like:
आप कौन है
Sandeep Albela
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
Angad tiwari
Angad Tiwari
लाचार बूढ़ा बाप
The jaswant Lakhara
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H.
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गांव के घर में।
Taj Mohammad
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...