Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2021 · 2 min read

आओ इश्को करम की बात करें, आओ तेरे सनम की बात करें।

आओ इश्को करम की बात करें।
आओ तेरे सनम की की बात करें।

जिस्म जिसपर शबाब छाया है।
बकौल तेरे रुआब आया है।
आंखों में जिसके दो जहाँ तेरे।
रूख़ पे जिसके गुलाब आया है।
जिसके होठों पे मय थिरकती है।
आज कोयल सी जो चहकती है।
आज यह दिलफ़रेब चेहरा जो।
तेरे जेहन पे खूब छाया है।
ये बदन जब जहाँ में आया था।
शमा कुछ और ही नुमायाँ था।
कई दिल टूटे कई बिखरे थे।
मां की खातिर नए कुछ फिकरे थे।
खुश तो थे मगर न थे ऐसे।
बेटा होने पे जिस तरह होते।
मैं भी उनके बदन का हिस्सा थी।
नन्ही सी मैं भी इक फरिश्ता थी।
पैसे जिनसे मिठाई आनी थी।
महफ़िल जिनसे सजाई जानी थी।
ख़र्च वो हो गए बचाने में।
पैदा होते दहेज खाने में।
एक एक सिक्का जोड़ते बैठे।
उम्र भर रिश्ता खोजते बैठे।

आओ मुझसे रकम की बात करें।
आओ तेरे सनम की बात करें।

राह चलते नज़र उठाते हैं।
जिस्म पर हर कहीं गड़ाते हैं।
कहीं एक पूंछ जैसे हिलती है।
न दिखे लार पर टपकती है।
अच्छे खासे हैं जवां मर्द मगर।
याद वो जानवर दिलाते हैं।
देखा है जितनी बार सोचा है।
उसने ख्वाबों में हमको भोगा है।
ख़्याल में वो हमें ले जाते हैं।
दिल को ऐसे भी वो बहलाते हैं।
टूटता है बदन पिघलता है।
एक लावा सा दिल में बहता है।
अपना घर भी नहीं सुरक्षित है।
बारहा दिल ये हमसे कहता है।
रिश्ते देखे हैं तार तार यहाँ।
सारे नाते हुए बदकार यहाँ।
जब भी मौका मिले उठाते हैं।
नोंचते कमसिनों को खाते हैं।
अपने घर में भी कोई लड़की है।
जाने कैसे वो भूल जाते हैं।

आओ उनके हरम की बात करें।
आओ तेरे सनम की बात करें।

10 Likes · 1 Comment · 177 Views
You may also like:
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
वक्त की चौसर
Saraswati Bajpai
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
तमाशाई बन गए हैं।
Taj Mohammad
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
जुनून।
Taj Mohammad
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
मुझको रूलाया है।
Taj Mohammad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
मुझपे लफ़्ज़ों का
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️बूद✍️✍️
'अशांत' शेखर
Loading...