Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

आइनों का शहर

नजदीकियां दिल मे हो और अच्छे मायनों का शहर हो।
मिलें दिल्लगी से हम और अच्छे से गुजर- बसर हो।
गलतियां सबकी खुद ही दिखाई देने लगे,
काश के इस जहाँ में एक आइनों का शहर हो।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 202 Views
You may also like:
पिता
Rajiv Vishal
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
बदलती परम्परा
Anamika Singh
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr.Alpa Amin
The flowing clouds
Buddha Prakash
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
प्रेम कथा
Shiva Awasthi
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
परिवार
Dr Meenu Poonia
Loading...