Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 9, 2016 · 1 min read

आइना

किसलिये जाता वहॉ लेकर मै अपना आइना
शह्रे नाबीना को आखिर क्या दिखाता आइना

मै भी रोया देखकर बेचेहरगी की भीड़ मे
अपनी किस्मत पर बहुत ही रो रहा था आइना

किरचियों को चुनते चुनते हाथ ज़ख्मी हो गये
क्या बताऊं किस तरह टूटा है दिल का आइना

ऐसी सूरत मे यकीनन टूट जाना है मुझे
पत्थरो के दरमियॉ हूं मै ही तन्हा आइना

एक भी चेहरा कभी मुहताजे आईना न हो
लोग बन जायें अगर इक दूसरे का आइना

टूट जायेगा हसीं हर ख्वाब आज़म उस घड़ी
वक़्त दिखलायेगा जिस दिन तुझको अपना आइना

1 Like · 1 Comment · 282 Views
You may also like:
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Saraswati Bajpai
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
धन्य है पिता
Anil Kumar
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
आओ तुम
sangeeta beniwal
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता की याद
Meenakshi Nagar
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Loading...