Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author

आइना हूं मैं

आइना हूं मैं
जिस दिन टूट जाऊंगा
दूर ही रहना मुझसे
नहीं तो तुझे चुभ जाऊंगा

अभी दिखाता हूं
वास्तविकता तुमको
फिर देखना तुमको
दिन में तारे दिखाऊंगा

जानता हूं सबकुछ
कुछ कहता नहीं हूं
कोई जिद्द करे तो
चुप भी रहता नहीं हूं

तू देखता है सबकुछ
खुद को देख नहीं पाता
आता है जब सामने मेरे
तू छुप भी नहीं पाता

दिखाता हूं कड़वी सच्चाई भी
जो हिम्मत हो देखने की
खोलकर रख देता हूं परतें सारी
जो चाहत हो जानने की

रखते है संभालकर मुझे
जब तक टूट न जाऊं मैं
तबतक है कीमत मेरी
जबतक तेरे काम आऊं मैं

जब रहता नहीं किसी काम का
आइने को भी आइना दिखाता है इंसान
है नहीं मेरी कोई ज़रूरत अब उसे
कहकर मुझे कूड़े में फेंक देता है इंसान।

10 Likes · 2 Comments · 215 Views
You may also like:
आज के रिश्ते!
Anamika Singh
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
'अशांत' शेखर
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
नाम
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
ईद के बहाने ही सही।
Taj Mohammad
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
बदरिया
Dhirendra Panchal
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️लापता हूं खुद से✍️
'अशांत' शेखर
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
चाहत की हद।
Taj Mohammad
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आजादी का दौर
Seema Tuhaina
नींदों से कह दिया है
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...