Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 10, 2016 · 1 min read

आइना खुद को दिखाना आ गया

आइना खुद को दिखाना आ गया
राब्ता सच से निभाना आ गया

जब से हम करने लगे हैं शायरी
दर्द की महफ़िल सजाना आ गया

आसमानी सोच उसकी हो गई
चार पैसे क्या कमाना आ गया

ज़िन्दगी में यूँ हुए मशरूफ़ हम
हाथ पर सरसों उगाना आ गया

हुस्न की दौलत वो जब से पा गए
तहलका उनको मचाना आ गया

ठोकरें खाकर वफ़ा की राह में
चोट पर मरहम लगाना आ गया

माही
जयपुर, राजस्थान

1 Like · 1 Comment · 198 Views
You may also like:
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
न कोई चाहत
Ray's Gupta
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पहचान
अनामिका सिंह
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
शहीद होकर।
Taj Mohammad
✍️मेहरबानी✍️
"अशांत" शेखर
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
जिंदगी का काम  तो है उलझाना
Dr. Alpa H. Amin
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
"अशांत" शेखर
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
धूप में साया।
Taj Mohammad
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...