Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

आंधियां आती हैं सबके हिस्से में, ये तथ्य तू कैसे भुलाता है?

अंतर्मन के द्वंदों से आज भी मन थर्राता है,
बीते वक़्त का तूफ़ान जब राहों को भरमाता है।
शब्दों का वो कोलाहल संवेदनाओं को स्तब्ध कर जाता है,
आघातों की क्रमबद्धता ,आत्मा का शवदाह दिखाता है।
अंधकार के प्रचंड काल में, जले दीप भी बुझाता है,
फूलों का भ्रम फैला कर काँटों का ताज सजाता है।
मौन में छुपे आंसुओं को स्वयं की विजय बताता है,
संस्कारों में बसी दुविधाओं का लाभ बहुत उठाता है।
बोझिल आँखों को स्वप्न नहीं, रक्तपात दिखाता है,
चरणों को मंदिर नहीं, मरघट की ओर ले जाता है।
नफरत की पोटली से खुद का शीश सजाता है,
ईर्ष्या भरे आचरण पर गर्वित हो इठलाता है।
भावभंगिमा ऐसी इसकी, कि सर्प भी चकित हो जाता है,
विषधर कहते सब मुझको, फिर ये विष कहाँ से लाता है।
रिश्तों की बगिया में जब परायापन अंकुरित हो जाता है,
अपनों के मन का लहू चूसकर, स्वयं को संत बताता है।
उत्कृष्टता के छलावे में इतना अँधा हो जाता है,
आंधियां आती हैं सबके हिस्से में, ये तथ्य तू कैसे भुलाता है?

4 Likes · 4 Comments · 58 Views
You may also like:
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
देह मिलन
Kavita Chouhan
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️जुर्म संगीन था...✍️
'अशांत' शेखर
Angad tiwari
Angad Tiwari
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
हक़ीक़त न पूछिए
Dr fauzia Naseem shad
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
✍️हम भारतवासी✍️
'अशांत' शेखर
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच्चा प्यार
Anamika Singh
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा
मुन्ना मासूम
'खिदमत'
Godambari Negi
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
जहाँ तुम रहती हो
Sidhant Sharma
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
Loading...