Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 1 min read

आँसू

आँसू मन का कर गए, सीधा सा उपचार
खारे पानी मे बहे, मन के सभी विकार

गम हो या कोई खुशी, आँसू बहें जरूर
दिल से भी बीमारियां, ये रखते हैं दूर

खारे खारे आंसुओं , की मीठी ये बात
इनमें सदा घुले हुए , रहते हैं जज्बात

कोई गम की बात जब, देती सीना चीर
तब आँसू बन कर दवा, हर लेते हैं पीर

पत्थर सा दिल हो गया , सूख गये जब नैन
फूटेगा दरिया कभी, तभी मिलेगा चैन

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)
06-09-2017

264 Views
You may also like:
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पिता
Kanchan Khanna
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
Loading...