Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2022 · 1 min read

आँख

मानव शरीर का एक एक अंग,मानव को कुछ ना कुछ बतलाता है।
कोई समझ नहीं पाता है उसको,और कोई समझ यह जाता है।।
आज करें हम बात आँंख की, आँखो से क्या हमको मिल जाता है।
प्रभु ने हमको भेजा है जो,संदेश बहुत ही प्यारा आँखो से आता है।।
दुनिया का हर अच्छा और बुरा,हमको आँखो से ही दिखलाता है।
इसी आँख में हे मानव जब भी,एक छोटा सा कण भी चला जो जाता है।। मानव अपनी उसी आँख से, उस कण को देख नहीं पाता है।
पीढ़ा आँख की कण के रहते,मानव सह भी तो नहीं पाता है।।
अपनी आँख के कण को मानव,दूसरे मानव से दूर कराता है।
क्या संदेश दिया है प्रभु ने,मानव को इन आँखो के रस्ते से।
आज विजय बिजनौरी तुमको,प्रभु का दिया वही संदेश बताता है।।
हर मानव गलती करता है क्योंकि, उसको स्वयं वह देख नहीं पाता है।
उसके द्वारा की गई गलती को,उसका कोई अपना ही उसे बताता है।।
मान करो हर उस व्यक्ति का,जो तुम्हें तुम्हारी ही गलती बतलाता है।
मान जो जाता है अपनी गलती,वही सफलता की सीढ़ी चढ़ पाता है।।

विजय बिजनौरी

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 66 Views
You may also like:
इश्क तुमसे हो गया देखा सुना कुछ भी नहीं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कविता को बख्श दो कारोबार मत बनाओ।
सत्य कुमार प्रेमी
सर्दी का मौसम
Ram Krishan Rastogi
परिचय
Pakhi Jain
उड़ता लेवे तीर
Sadanand Kumar
सुना था हमने, इश्क़ बेवफ़ाई का नाम है
N.ksahu0007@writer
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
तुम्हें देखा
Anamika Singh
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ व्यंग्य / जंगल-बुक
*Author प्रणय प्रभात*
मुहब्बत और जंग
shabina. Naaz
जय जय जय जय बुद्ध महान ।
Buddha Prakash
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र
VINOD KUMAR CHAUHAN
ਹਕੀਕਤ ਵਿੱਚ
Kaur Surinder
*शक्ति दो भवानी यह वीरता का भाव बढ़े (घनाक्षरी: सिंह...
Ravi Prakash
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
शायर का फ़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
रुकना हमारा कर्म नहीं
AMRESH KUMAR VERMA
कहाँ चले गए
Taran Singh Verma
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
अच्छा है तू चला गया
Satish Srijan
# क्रांति का वो दौर
Seema 'Tu hai na'
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
"तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!"
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
कलयुग में भी गोपियाँ कैसी फरियाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
स्वाभिमान से इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी_व्यथा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रावण दहन
Ashish Kumar
कौन बुरा..? कौन अच्छा...?
'अशांत' शेखर
Loading...