Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

आँखों में

ख़्वाब तेरा करता है वो जादू आँखों में
भर उठती है ख्वाब की हर ख़ुशबू आँखों में

क़त्ल बताओ कैसे फिर मेरा न होता
रक्खे थे उसने लम्बे चाकू आँखों में

मचल मचल जाती हैं ये दीदार को तेरे
अब हमको भी रहा नहीं काबू आँखों में

दर्द कोई जब दिल को मेरे छेड़े आकर
ज़ोर से हंसते हैं मेरे आंसू आँखों में

ऐ नदीश जिसपे भी किया भरोसा तूने
चला गया है झोंक के वो बालू आँखों में

© लोकेश नदीश

1 Comment · 282 Views
You may also like:
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है...
पीयूष धामी
अकिंचन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तितली
लक्ष्मी सिंह
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
माँ आई
Kavita Chouhan
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
✍️✍️याद✍️✍️
'अशांत' शेखर
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
दशानन
जगदीश शर्मा सहज
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खामोश रह कर हमने भी रख़्त-ए-सफ़र को चुन लिया
शिवांश सिंघानिया
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
डरता हूं
dks.lhp
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
मेरे पापा
Anamika Singh
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
🌺🌸प्रेम की राह पर-65🌸🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Life's beautiful moment
Buddha Prakash
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
कुंडलियाँ
प्रीतम श्रावस्तवी
ये अनुभवों की उपलब्धियां हीं तो, ज़िंदगी को सजातीं हैं।
Manisha Manjari
एक बर्बाद शायर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...