Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी

आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी
भीतर की सब कच्ची , दीवारे ढहने लगी !!

दर्द से अश्क़ो की मौजें , जब तड़पने लगी
दुखती हुई रग दिल में और भी दुखने लगी !!

तपती हुई आहे – दर्द जला ना दे दिल कहीं
साँसे लेके तेरा नाम,तुझे सजदा करने लगी !!

आने लगा जी में जी , साँसों को साँसे जैसे
मेरे जख्मो पे जब तेरी तस्वीर उभरने लगी !!

फलक के दामन पर मातम सा छाने लगा
निकल के दर्दे-दिल से सदा जब गूंजने लगी !!

इक शख्स को तड़पता देख के मेरे भीतर
मौत भी मेरी मौत के अब लम्हे गिनने लगी !!

रोया है दर्द-ए-दिल कागज पे पुरव अपना
लोगो की नजर जिसे ग़ज़ल समझने लगी !!

पुरव गोयल

191 Views
You may also like:
जरूरत उसे भी थी
Abhishek Pandey Abhi
छोड़कर ना जाना कभी।
Taj Mohammad
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
इंतज़ार
Alok Saxena
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
✍️मिसाले✍️
'अशांत' शेखर
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️कैसी खुशनसीबी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
'क्या लिखूँ, कैसे लिखूँ'?
Godambari Negi
*आधुनिक सॉनेट का अनुपम संग्रह है ‘एक समंदर गहरा भीतर’*
बिमल तिवारी आत्मबोध
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
मैं टूटता हुआ सितारा हूँ, जो तेरी ख़्वाहिशें पूरी कर...
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-60💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीद है कि वो मुझे .....।
J_Kay Chhonkar
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिंदगी के उस मोड़ पर
shabina. Naaz
दिल ए गहराइयों में
Dr fauzia Naseem shad
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Loading...