Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author

आँखों का कसूर

मीटर-222-221-222,222-121-222
इन आँखों का यार इक ही तो,प्यारा-सा कसूर देखा है।
दिन में तेरा दीद रातों में,ख़्वाबों का सरूर देखा है।।

जलते हैं दीये वफ़ा के ही,दिल के आशियाने में हमदम।
बस यादों का सिलसिला बनता,हँँसके दर्द का हसीं मरहम।
चाहत के आँगन खिला तुमको,फूलों-सा हुज़ूर देखा है।
दिन में तेरा दीद रातों में,ख़्वाबों का सरूर देखा है।

खुल उम्मीदों के झरोखे से,करती इंतज़ार आने का।
कितना अच्छा फलसफ़ा है ये,तन्हाई दिली छिपाने का।
प्रीतम आँखों में तुझी को बस,हरपल में ज़रूर देखा है।
दिन में तेरा दीद रातों में,ख़्वाबों का सरूर देखा है।

इन आँखों का यार इक ही तो,प्यारा-सा कसूर देखा है।
दिन में तेरा दीद रातों में,ख़्वाबों का सरूर देखा है।।

राधेयश्याम बंगालिया “प्रीतम”
————————————

1 Like · 204 Views
You may also like:
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
- मेरा ख्वाब मेरी हकीकत
bharat gehlot
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मील का पत्थर
Anamika Singh
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
चल-चल रे मन
Anamika Singh
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
गीत... कौन है जो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
हे कृष्णा पृथ्वी पर फिर से आओ ना।
Taj Mohammad
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
Loading...