Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

आँखें हृदय का द्वार हैं, संवेदना संचार हैं!

आँखें
आँखें हृदय का द्वार हैं,
संवेदना संचार हैं!
महसूस करती हैं कशिश,
अहसास प्यार दुलार सब
जीवंतता का गुण अनोखा,
प्रेम का आधार हैं,
आँखें हृदय का द्वार हैं,
संवेदना संचार हैं!*************
व्यक्त कर सकतीं सभी
ये भाव को निशब्द ही,
बंद हो कर भी सतत ,
हर स्वप्न को तैयार हैं
आँखें हृदय का द्वार हैं,
संवेदना संचार हैं!***************
ये छलक जातीं न कहतीं
वेदना और पीर को
प्रीत का सागर अलौकिक,
प्रेम की पतवार हैं
आँखें हृदय का द्वार हैं,
संवेदना संचार हैं!**************

अनुराग दीक्षित
१८.०९.१७

165 Views
You may also like:
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
मेरे पापा
Anamika Singh
💔💔...broken
Palak Shreya
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Ram Krishan Rastogi
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
मेरे साथी!
Anamika Singh
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
पिता
Keshi Gupta
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अरदास
Buddha Prakash
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...