Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 18, 2016 · 1 min read

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे .
आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे .
किसमें हिम्मत जो हमपे सितम ढा सके .
वो तो अपने ही थे जो सताते रहे
जिन लबों को मुकम्मल हँसी हमने दी .
वो ही किस्तों में हमको रुलाते रहे .
उनको हमने सिखाया कदम रोपना .
जो हमें हर कदम पे गिराते रहे .
काश !मापतपुरी उनसे मिलते नहीं .
जो मिलाके नज़र फिर चुराते रहे .

——- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 290 Views
You may also like:
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
If we could be together again...
Abhineet Mittal
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
धन्य है पिता
Anil Kumar
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...