Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 6, 2021 · 1 min read

अहं के अंधकार मेँ

अहं के अंधकार मेँ

मैं ही राजा, मैं ही प्रजा
मैं ही ईश, मैं ही जीव
मैं ही अग्नि, मैं ही जल
मैं ही प्रकाश, मैं ही अंधकार
मैं आकर, मैं ही प्रकार
मैं ही अहं, मैं ही व्यंग
मैं ही योगी, मैं ही भोगी
मैं ईश मेँ समर्पित
ईश मेरे मेँ समर्पित
मैं सब मेँ समर्पित
सब मेरे मेँ समर्पित
अतः
मैने खाया, सब ने खाया
मैंने पूजा, सब ने पूजा
मैं ही मेँ, मैं ही मैं..
अहं ब्रह्मः अस्मि
ॐ तत सत
मनुष्य जीवन में “अहं ”
क्षती स्पर्धा लाती है,
एवं जीवन सम्पूर्ण रुप से
त्राहि त्राहि हो जाती है

254 Views
You may also like:
बद्दुआ।
Taj Mohammad
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
जो देखें उसमें
Dr.sima
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
क़िस्मत का सितारा।
Taj Mohammad
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फूल की ललक
Vijaykumar Gundal
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धोखा
अनामिका सिंह
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
पिता
KAMAL THAKUR
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...