Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

अश्रु-नाद

खो गयी प्रेम की नगरी
झंझा-झंकोर घन घेरे ।
हो हाहाकार हृदय में
सुन अश्रु-नाद को मेरे ।।

लघु बूँदे ले मतवाला
नभ से ऐ ! नीरद माला ।
बुझने दे आँसू-नद से
अभिलाषाओं की ज्वाला ।।

मम् व्यथित हृदय से आती
अंतर्मन में अकुलाती ।
जीवन की नित अभिलाषा
आँसू बनकर बह जाती।।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Comments · 404 Views
You may also like:
हक़ीक़त ने किसी ख़्वाब की
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
श्री गणेश स्तुति
Shivkumar Bilagrami
विश्व शांति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
औरतों की तालीम
Shekhar Chandra Mitra
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
सोबन का यह अर्थ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
वरदान दो माँ
Saraswati Bajpai
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*मूॅंगफली स्वादिष्ट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
पता नहीं
shabina. Naaz
दिवाली
Aditya Prakash
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
नफरत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
रहना सम्भलकर यारों
gurudeenverma198
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
Loading...