Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*अश्क*

अश्क आँखों में दबाना सीख ले
दर्द में भी मुस्कुराना सीख ले

प्रीत के ही गीत तू गाये सदा
वैर को दिल से भुलाना सीख ले

अब कहाँ मिलती पुरानी सी वफ़ा
इस जफा से दिल लगाना सीख ले

राह उजली या अँधेरी जो मिलें
तू उन्ही पर पग बढ़ाना सीख ले

हो गयी है अब सुहानी ये धरा
जीत को मन में समाना सीख ले *धर्मेन्द्र अरोड़ा*

2 Comments · 250 Views
You may also like:
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
If we could be together again...
Abhineet Mittal
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...