Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

अशक्त परिंदा

मैं एक सहृदय, अनभिज्ञ
तन्वी, कृशांगी सा परिंदा
फस गया बंदी आलय मे
कैसे बचू ? कैसे निकलू ?
दुर्गति भारी इस कैद से।

मै एक बालसुलभ सा
अल्पवयस्क ही परिंदा
किसी ने हम पे कर जादू
खंडन रहता हमसे कृत्य
क्या करू ? कैसे बचू ?

मैं एक मृदुल – मार्मिक
दैनय, कृपालु सा परिंदा
क्रश गया इस चहला में
निकालने का पंथ हमें
दिखता हमें न दूर – दूर ।

मैं एक नाबालिग सा
अल्पागुलफ़ाम परिंदा
बंध गया साँकल से
टूट न रही ये कटके !
क्या करू ? कैसे टोरू ?

मैं एक तनु, कृशांगी
अशक्त सा परिंदा
मेरी लब्ध का कोई
उठता रहता अधिगम
दूर तक न दिखता पंथ ।

221 Views
You may also like:
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
कब मेरी सुधी लोगे रघुराई
Anamika Singh
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार का चिराग
Anamika Singh
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
गलतफहमी
विजय कुमार अग्रवाल
✍️रहनुमा रहता है✍️
'अशांत' शेखर
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
सच एक दिन
gurudeenverma198
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
'अशांत' शेखर
इश्क
goutam shaw
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फासले
Seema 'Tu haina'
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
औकात।
Taj Mohammad
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
नहीं छिपती
shabina. Naaz
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
क्या कुछ नहीं है मेरे पास
gurudeenverma198
*संस्मरण*
Ravi Prakash
Loading...