Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 20, 2022 · 1 min read

अविरल

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

🎀 अविरल 🎀

मन के सन्तापों को कब चैन मिला जग में
ये उतना ही था भटका जितना घूमा जग में ।।
पल पल भरमाया देख देख इसकी माया
संतर्पण को लेकर था भृमित आत्म किसमें ।।
ये काल कपाल भृकुटी मण्डपमा
नल नील निकन्दन बृज के वासी ।।
माला उलझ गई जब माला में
बिखरे मोती सगरे जग में ।।
मन पागल भौंरा डोल गया
तन सुधि न रही किसी के बस में ।।
सीता डूबी विरहन से मृग
स्वर्ण गयो छल बुद्धी को ।।
राम पठाये निज स्वार्थ को
वाके पीछे भ्राता लछ्मन को ।।
जनक दुलारी अजोधा की महारानी
ठगी गई साधु भेस लख रावण को ।।
अब कोस रही कर कर विलाप
न देख सकी कटु भावन को ।।
मन के सन्तापों को कब चैन मिला जग में
ये उतना ही था भटका जितना घूमा जग में ।।
पल पल भरमाया देख देख इसकी माया
संतर्पण को लेकर था भृमित आत्म किसमें ।।

71 Views
You may also like:
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
पत्थर दिल है।
Taj Mohammad
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
शहीद-ए-आजम भगतसिंह
Dalveer Singh
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार "कर्ण"
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
मित्र
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
युवता
Vijaykumar Gundal
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
टूटे बहुत है हम
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
*पद्म विभूषण स्वर्गीय गुलाम मुस्तफा खान साहब से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
सुविचार
Godambari Negi
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
Loading...