#4 Trending Author

अवार्ड वापसी का नाटक

अब क्यों नहीं हो रहे अवार्ड वापिस ,
और क्यों नहीं हो रही असहनशीलता की बातें.
भई ! हमारी सरकार व् जनता बहुत अधिक सहनशील है हद से जायदा ,तभी तो रोज़ अनगिनित दामिनियाँ क्रूर और खूंखार ,वेह्शी भेडियों का शिकार हो रही हैं मगर कोई इसके खिलाफ आवाज़ अपनी बुलंद नहीं करता . है किसी में इतनी हिम्मत ,जो ऐसे कानून के परखच्चे उड़ा दे जो एक मासूम लड़की को इन्साफ भी दिलवा ना सके. और वोह नाबालिग कहे जाने वाले ”सपोले ” को क्यों रिहा कर दिया . ताकि वोह बालिग होकर और अधिक ज़हरीला नाग बनकर अन्य किसी मासूम लड़की को डसे .उसकी जिंदगी बर्बाद करे. क्यों ?

1 Like · 2 Comments · 75 Views
You may also like:
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
मां-बाप
Taj Mohammad
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्ते
Saraswati Bajpai
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
Nature's beauty
Aditya Prakash
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
पिता
Madhu Sethi
Loading...