Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author

अवतरण दिवस

************ अवतरण दिवस ***********
************************************

इस बार फिर से अवतरण दिवस आया है,
फिर से वही बातें नया कुछ नहीं लाया है।

कोई न समझे पीर – धीर मन की जग में,
ताली बजाकर कुछ जुलूस सा निकल पाया है।

कोई गिला – शिकवा रहा न जीवन तुम से,
मकसद जहां में क्या समझ नहीं आया है।

खुशियों भरी महफ़िल सजी हुई आंगन में,
दिल का करीबी भी नजर नहीं आया है।

इक ओर जीवन का गया वर्ष मनसीरत,
कोई समय की रफ्तार को पकड़ पाया है।
************************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

20 Views
You may also like:
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
अभिलाषा
Anamika Singh
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
अपने दिल को।
Taj Mohammad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अब जो बिछड़े तो
Dr fauzia Naseem shad
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीतने की उम्मीद
AMRESH KUMAR VERMA
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
बुद्धिजीवियों पर हमले
Shekhar Chandra Mitra
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
ज़ब्त क्यों मेरा आज़माते हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️अच्छे करम मांगता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
देख कर
Dr fauzia Naseem shad
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
'अशांत' शेखर
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
Loading...