Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2022 · 1 min read

“अल्मोड़ा शहर”

“शहर तो बदल गया पर यादें नहीं बदली”

जब-जब अपने शहर को यहाँ से देखता हूँ,
इन भरी इमातारों के बीच अपने बेफ़िक्र बचपन को ढूढ़ता हूँ।
यहाँ से नज़र आती है कुछ वो पुरानी यादें, कुछ दोस्त, स्कूल बस और बस की खिड़की में बैठी तुम।❤️
“लोहित टम्टा”

2 Likes · 4 Comments · 110 Views
You may also like:
बादल जब गरजे,साजन की याद आई होगी
Ram Krishan Rastogi
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
तू इंसान है
Sushil chauhan
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
*सुना है इस तरह पैसा भी जादूगर कहाता है (हिंदी...
Ravi Prakash
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
चिलचिलती धूप
Nishant prakhar
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रावण दहन
Ashish Kumar
बेटियां।
Taj Mohammad
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
“ मूक बधिर ना बनकर रहना ”
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
ममता
Rashmi Sanjay
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
वर्तमान भी छूट रहा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
माई री [भाग२]
Anamika Singh
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
Shivraj Anand
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Loading...