Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2022 · 2 min read

अर्धनारीश्वर की अवधारणा…?

” अर्धनारीश्वर की अवधारणा ”
(छंदमुक्त काव्य)
~~°~~°~~°
इस कशमकश-ए-जिन्दगी में,
इंतजार करते ही रह जाते हैं लोग…
एक दूसरे को समझ पाने में,
इंतजार की घड़ियाँ समाप्त ही नहीं होती ।
एक दूसरे के मनोभावों को,
आत्मसात करने हेतु,
तड़पते ही रह जाते हैं लोग।
आज के भौतिक युग में,
प्रेमीजनों को सिर्फ आकर्षक तन ही दिखता।
सदियों से प्यासी मन तो,
प्यासी की प्यासी ही रह जाती है…
फिर इंतजार कैसे खत्म होगी ?
तन कम्पित होकर करे भी भला क्या ?
यदि मन विचलित ही रह जाए !
अदब से झुकना,दिल की गहराईयों में झाँकना,
एक दूसरे के भावों को पहचानना,
मनुष्य की फितरत में, शामिल ही नहीं होता।
बेरुखीपन,अतृप्त मन और ,
बनावटीपन का प्यार,
कब तक संग-संग चले भला ?
रिश्तों में भी इंतजार की सीमा होती है…
बाजुओं की गिरफ्त जैसे ही ढीली पड़ती,
मन छटपटाने लगता आज़ाद होने को।
फिर कुछ ऐसा लगता है कि _
यही वो समय है,
यही वो जगह है,
जहाँ से रास्ते बदलने हैं।
फिर मन रास्ते बदल कर,
किसी दूसरे नर/नारी का,
इंतजार करने लगता…
पूर्ण समर्पण और,
एक दूसरे में आत्मसात करके,
अर्द्धनारीश्वर के अद्वितीय स्वरूप का,
अनुभव करने की स्थिति,
बन ही नहीं पाती जीवन में।
मनुष्य मन अतृप्त ही रह जाता,
इंतजार कभी खत्म नहीं होता…
अर्द्धनारीश्वर और अर्द्धांगिनी,
गृहस्थाश्रम में मनुष्य के लिये,
एक बेहद कठिन परिकल्पना बन गई है।
ईश्वर का अनुभव,
भले ही हो जाए जीवन में।
पर वो अर्धनारीश्वर की अवधारणा !
भोलेनाथ के लिए ही,
रहने दो….!

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १५ /०१ / २०२२
पौष, शुक्ल पक्ष,त्रयोदशी
२०७८, विक्रम सम्वत,शनिवार
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
Tag: कविता
5 Likes · 4 Comments · 794 Views
You may also like:
Tumhara Saath chaiye ? Zindagi Bhar
Chaurasia Kundan
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
सफलता की दहलीज पर
कवि दीपक बवेजा
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार कर डालो
Dr. Sunita Singh
” विषय ..और ..कल्पना “
DrLakshman Jha Parimal
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
आग का दरिया।
Taj Mohammad
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
✍️किसीको पिघलते देखा है..?✍️
'अशांत' शेखर
बेघर हुए शहर में तो गांव में आ गए
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
हर कोने में पीक( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
✍️मातारानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
तमसो मा ज्योतिर्गमय
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
बिछड़ के मुझसे
Dr fauzia Naseem shad
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
💐💐शरणागतस्य सर्वाणि कार्याणि परमात्मना भवन्ति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोच
kausikigupta315
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
■ मौजूदा हाल....
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स...
Manisha Manjari
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा'...
Rohit yadav
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...