Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Jan 15, 2022 · 2 min read

अर्धनारीश्वर की अवधारणा…?

” अर्धनारीश्वर की अवधारणा ”
(छंदमुक्त काव्य)
~~°~~°~~°
इस कशमकश-ए-जिन्दगी में,
इंतजार करते ही रह जाते हैं लोग…
एक दूसरे को समझ पाने में,
इंतजार की घड़ियाँ समाप्त ही नहीं होती ।
एक दूसरे के मनोभावों को,
आत्मसात करने हेतु,
तड़पते ही रह जाते हैं लोग।
आज के भौतिक युग में,
प्रेमीजनों को सिर्फ आकर्षक तन ही दिखता।
सदियों से प्यासी मन तो,
प्यासी की प्यासी ही रह जाती है…
फिर इंतजार कैसे खत्म होगी ?
तन कम्पित होकर करे भी भला क्या ?
यदि मन विचलित ही रह जाए !
अदब से झुकना,दिल की गहराईयों में झाँकना,
एक दूसरे के भावों को पहचानना,
मनुष्य की फितरत में, शामिल ही नहीं होता।
बेरुखीपन,अतृप्त मन और ,
बनावटीपन का प्यार,
कब तक संग-संग चले भला ?
रिश्तों में भी इंतजार की सीमा होती है…
बाजुओं की गिरफ्त जैसे ही ढीली पड़ती,
मन छटपटाने लगता आज़ाद होने को।
फिर कुछ ऐसा लगता है कि _
यही वो समय है,
यही वो जगह है,
जहाँ से रास्ते बदलने हैं।
फिर मन रास्ते बदल कर,
किसी दूसरे नर/नारी का,
इंतजार करने लगता…
पूर्ण समर्पण और,
एक दूसरे में आत्मसात करके,
अर्द्धनारीश्वर के अद्वितीय स्वरूप का,
अनुभव करने की स्थिति,
बन ही नहीं पाती जीवन में।
मनुष्य मन अतृप्त ही रह जाता,
इंतजार कभी खत्म नहीं होता…
अर्द्धनारीश्वर और अर्द्धांगिनी,
गृहस्थाश्रम में मनुष्य के लिये,
एक बेहद कठिन परिकल्पना बन गई है।
ईश्वर का अनुभव,
भले ही हो जाए जीवन में।
पर वो अर्धनारीश्वर की अवधारणा !
भोलेनाथ के लिए ही,
रहने दो….!

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १५ /०१ / २०२२
पौष, शुक्ल पक्ष,त्रयोदशी
२०७८, विक्रम सम्वत,शनिवार
मोबाइल न. – 8757227201

5 Likes · 4 Comments · 485 Views
You may also like:
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
वही मित्र है
Kavita Chouhan
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
*तिरंगा लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
*"पिता"*
Shashi kala vyas
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अपने और जख्म
Anamika Singh
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️प्रकृति के नियम✍️
'अशांत' शेखर
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल हमारा।
Taj Mohammad
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
*अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
मुखौटा
Anamika Singh
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr.Alpa Amin
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
Loading...