Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 20, 2020 · 1 min read

“अरे ओ मानव”

आज के आदमी नारीत्व का
सम्मान करना नहीं जानते,
सुकून प्यार की दो बातों में है
यह बात क्यों नहीं पहचानते?
क्षणिक खुशी के लिए
ठेके और बार में ठोकर खाते हैं,
मुझे परिवार कमाने की चिंता है
यह कहकर नारी पर झललाते हैं,
अरे मानव !तुमसे ज्यादा चिंतित है नारी
जो विभिन्न रूपों में निभाती है कर्जदारी,
जिस दिन नारी गलियों में उतरेगी
अपनी टेंशन मिटाने को,
मर्द को जगह नहीं मिलेगी
उस दिन में छुपाने को,
परिवार के साथ वक्त बिता कर तो देख मानुष
सारी जन्नतें यही बस्ती है,
भगवान भी पत्नी के पल्लू में सुकून पाता था
अरे मानव तेरी क्या हस्ती है,
दिखावटी खुशी क्षणभंगुर है
कुछ ही पल में उड़ जाती है, नारी ही वह दीपक है, जो
तेरी खुशी के लिए स्वयं को जलाती हैl

2 Likes · 4 Comments · 298 Views
You may also like:
लांगुरिया
Subhash Singhai
महँगाई
आकाश महेशपुरी
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
पिता की सीख
Anamika Singh
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
✍️सूफ़ियाना जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
✍️वो कहा है..?✍️
"अशांत" शेखर
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मां
हरीश सुवासिया
या इलाही।
Taj Mohammad
"साहिल"
Dr.Alpa Amin
*सुप्रभात की सुगंध*
Vijaykumar Gundal
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
✍️दिल शायर होता है...✍️
"अशांत" शेखर
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
कर्म करो
Anamika Singh
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उलझन
Anamika Singh
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
क्षणिकायें-पर्यावरण चिंतन
राजेश 'ललित'
Loading...