Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 1, 2022 · 3 min read

“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “

( रोमांचित संस्मरण )
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल “
=============================
पर्यटक क आकर्षण केंद्र आ अरुणांचल प्रदेश क उच्चतम शिखर ,सेला दर्रा आ ओहिठाम क सेला झील केँ बिना देखने अरुणांचल प्रदेश क यात्रा सफल नहि मानल जायत ! इ तवांग आ वेस्ट कामेंग क सीमा पर स्थित अछि ! एकर ऊँचाई 13,714 फीट समुद्रतल सँ ऊपर अछि ! एहिठाम क दर्रा आ ऊँच पर्वत शृंखला बर्फ सँ अक्षादित रहैत अछि ! सम्पूर्ण प्रकृति बर्फ क चादरि मे सनिहायल रहैत अछि ! ओहिठामक झील बर्फ सँ जमि जाइत अछि!

1962 क भारत -चीन युद्ध मे सिपाही जसवंत सिंह ओहि दर्रा लग समस्त चीनी सैनिक केँ छठिहारी केँ दूध याद दियेने छल ! एहि युद्ध क दौरान शीला नाम क आदिवासी कन्या सिपाही जसवंत सिंह केँ भोजनक आपूर्ति करैत छलीह ! जसवंत सिंह केँ मृत देखि शीला स्वयं वियोग मे अपन शरीर त्यागि देलिह ! एहिलेल शीला क नाम पर एकर नाम “सेला टॉप” राखल गेल !

हमरा इ दिव्य सुअवसर भेटल ! किछूये दिन भेल छल हम सेंगे आयल रहि ! अचानक आदेश भेटल कि अबिलंब अड्वान्स ड्रेसिंग स्टेशन मेडिकल टीम ओहिठाम स्थापित केल जाऊ ! सेला टॉप लग आस -पास अधिक सैनिक नहि छल ! परंच किछू दूर हटि केँ नूरानाँग आ जसवंतगढ़ मे किछू सैनिक टुकड़ी रहैत छल ! एकटा एंबुलेंस ,एकटा फौजी ट्रक , दस मेडिकल कर्मचारी आ सब समान ल केँ दिनांक 10 नवंबर 1984 केँ ओहिठाम चलि पड़लहूँ ! दूरी संभवतः ओना 14 किलोमीटर छल परंतु पहाड़ी रास्ता बद्द दुर्गम होइत अछि ! समय 3 घंटा लगि गेल ओतय पहुँचय मे !

बर्फ क समस्त पोशाक पहिरबाक बादो हाथ -पेआर ठंड़ सँ बहिर भ गेल छल ! ऑक्सीजन क कमीक आभास भ रहल छल ! मुदा किछू क्षण क बाद अद्भुत दृश्य देखि मन हरखित भ गेल ! सेला झील क पूर्वी छोर पर हमरा लोकनिक मुख्य तीनटा टेंट लागि गेल छल ! एकटा मुख्य टेंट मे मेडिकल इग्ज़ैमनैशन रूम बनल ! दोसर टेंट रहक लेल आ तेसर कूक हाउसक लेल ! एकर अतिरिक्त आर छोट -छोट टेंट जरूरत क अनुसारें लगाओल गेल छल ! देखैत -देखैत युद्ध स्तर पर काज प्रारंभ भ गेल आ हमरालोकनिक M I Room तैयार भ गेल ! सिंगनल ऑपरेटर हाथ सँ घूमा वला टेलीफोन लगा देलक ! 11 नवंबर 1984 सँ हमरा लोकनिक M I Room काज केनाय प्रारंभ क देलक !

एहिठाम क पर्वत शृंखला आ समस्त परिदृश्य वरफक चदारि मे सनिहा गेल छल ! हरियालीक कतो नहि दृष्टिगोचर होइत छल ! गाछ -वृक्ष बहुत कम ,घास कतो -कतो आ जे छल सहो कारी भ गेल छल ! सड़क क कात मे एक दूटा झोपड़ि दिखाई दैत छल ! दूर- दूर तक लोकक दर्शन दुर्लभ ! स्नो टेंट क भीतर बैसि हमरा लोकनि सिकड़ी तपैत छलहूँ ! माथ मे वल्कलवा ,शरीर पर गर्म कपडा ,मोट जैकिट आ गर्म कोर्ट ,गर्म लोअर ,ऊनी पेंट ,ऊनी सॉक्स ,गम -बूट आ हाथ क दस्ताना शरीरक कवच – कुंडल बनल छल !

एतैक नजदीक सँ बादल आ बरफक पर्वत शृंखला देखबाक सौभाग्य हमरा प्रथम बेर भेटल छल ! संध्या काल कनि दूर घूमय निकलय छलहूँ परंच ऑक्सीजन क कमी हमरा लोकनि केँ कोनों पहाड़ क टील्हा पर बैसबाक लेल वाध्य क दैत छल ! राति मे भोजन क बाद संगीत क प्रोग्राम होइत छल ! वाध्य-यंत्र क आभाव मे हम अपन- अपन मग -प्लेट ,कुर्सी आ टेबल बजबैत छलहूँ ! लालटेन लेसि प्रकाशक व्यवस्था करैत छलहूँ ! वैह रोशनी मे हम अपना गामक लोक आ मित्र लोकनि केँ फौजी अन्तर्देशीय लिफाफा मे चिठ्ठी लिखैत छलहूँ !

किछू दिन क बाद युद्ध अभ्यास खत्म भेल आ हम सबलोकनि संगे -संगे उतरि गेलहूँ ! फेर क्रमशः गुवाहाटी आबि गेलहूँ ! मुदा सेला टॉप क अनुभव ,प्राकृतिक दृश्य ,परिवेश ,दिव्य स्वर्ग क अनुभूति केँ कहियो नहि बिसरि सकलहूँ ! अखनो यदि ओहिठाम क स्मृति केँ हम याद करैत छी त रोमांचित भ उठइत छी ! पर्यटक बनि जेबा मे आजुक युग मे आर बेसि रोमांचक प्रतीत होइत अछि ! सीमा क सुरक्षा क जिम्मेदारी सैनिक क कान्ह पर होइत छैनि ! एहि द्वारें आई हम एहिठाम छी, काल्हि कियो आर सैनिक केँ आबि सीमा क सुरक्षा करय पड़तनि ! आइ हम शहीद जसवंत सिंह , शीला क सेला टॉप आ ओहिठाम क दर्रा केँ नमन करैत छी ! जयहिंद !
========================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखण्ड
भारत

41 Views
You may also like:
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल्लगी दिल से होती है।
Taj Mohammad
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️बचपन से पचपन तक✍️
'अशांत' शेखर
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️ये जरुरी नहीं✍️
'अशांत' शेखर
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
मालूम था।
Taj Mohammad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
"अंतरात्मा"
Dr.Alpa Amin
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
Loading...