Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2022 · 1 min read

अरि ने अरि को

अरि ने अरि को जब काट दिया।
रण को अरि शव से पाट दिया।
जो गिरा अरि शोणित रक्त बीज,
तो रणचण्डी को बाँट दिया।।
– भविष्य त्रिपाठी।
आयु : 17 वर्ष

Language: Hindi
Tag: कविता
76 Views
You may also like:
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
परिचय- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
:::: हवा ::::
MSW Sunil SainiCENA
गधा
Buddha Prakash
*क्षितिज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्राणदायी श्वास हो तुम।
Neelam Sharma
पिता की सीख
Anamika Singh
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
अपने वजूद में
Dr fauzia Naseem shad
आरजू
Kanchan Khanna
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
कलम
Sushil chauhan
मेरी माँ
shabina. Naaz
कालजयी कलाकार
Shekhar Chandra Mitra
"बिहार में शैक्षिक नवाचार"
पंकज कुमार कर्ण
'तकलीफ', नाकामयाबी सी
Seema 'Tu hai na'
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
✍️रूह-ए-इँसा✍️
'अशांत' शेखर
इक परिन्दा ख़ौफ़ से सहमा हुुआ हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
लाज नहीं लूटने दूंगा
कृष्णकांत गुर्जर
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
मंजिल को अपना मान लिया !
Kuldeep mishra (KD)
प्रेम कविता
Rashmi Sanjay
Loading...