Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#21 Trending Author

अरविंद सवैया

आयोजन विषय – अरविंद सवैया छन्द।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
परदेश बसे सुधि लेत नहीं, मन विह्वल है झरता दृग नीर।
बिलमाय लयी सखि सौतनिया, उसमें दिखती उनको अब हीर।
वह दूर गये अरु भूल गये, यह सोच सदा मन होत अधीर।
बिन साजन कौन सुने बतिया, किससे कहती हिय की सब पीर।।

संजीव शुक्ल ‘सचिन’

2 Likes · 74 Views
You may also like:
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
कालचक्र
"अशांत" शेखर
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
हर लम्हा।
Taj Mohammad
प्रेम...
Sapna K S
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
अगर ज़रा भी हो इश्क मुझसे, मुझे नज़र से दिखा...
सत्य कुमार प्रेमी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
बदलती परम्परा
Anamika Singh
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
Loading...