Sep 17, 2016 · 1 min read

अरमान दिल में बहुत थे मगर वो समझी नही/मंदीप

अरमान दिल में बहुत थे मगर वो समझी नही,
आँखों से गिरे थे आँसु वो उन आँसुओ को समझी नही।

उस ने आँखो से आँखे मिला तो ली,
पर मेरी लाल हुई आँखो को वो समझी नही।

इस कदर टुटा था दिल मेरा,
टूटे हुए दिल की आवाज को वो समझी ही नही।

बढ़ाया था हाथ उस की तरफ प्यार से,
पर वो मेरे हाथ के इशारे को समझी ही नही।

हम खाते रहे उस की चाहत में कसमे,
पर वो मेरी कसमो को कभी समझी ही नही।

दिल लगा बैठा मेरा दिल उसके दिल के साथ,
पर वो मेरे दिल को कभी समझी ही नही।

उसकी याद में रो कर बन गया बुरा हाल,
वो मेरे इस हाल को कभी समझी ही नही।

कर दिया”मंदीप” ने सब कुछ कुर्बान उस की हसरत में,
फिर भी वो पगली मेरे प्यार को समझी ही नही।

मंदीपसाई

149 Views
You may also like:
अरदास
Buddha Prakash
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
आजमाइशें।
Taj Mohammad
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
Anis Shah
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लत...
Sapna K S
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H.
Loading...