Sep 20, 2016 · 1 min read

अरमान दिल में बहुत थे/मंदीप

अरमान दिल में बहुत थे मगर वो समझी नही,
आँखों से गिरे थे आँसु वो उन आँसुओ को समझी नही।

उस ने आँखो से आँखे मिला तो ली,
पर मेरी लाल हुई आँखो को वो समझी नही।

इस कदर टुटा था दिल मेरा,
टूटे हुए दिल की आवाज को वो समझी ही नही।

बढ़ाया था हाथ उस की तरफ प्यार से,
पर वो मेरे हाथ के इशारे को समझी ही नही।

हम खाते रहे उस की चाहत में कसमे,
पर वो मेरी कसमो को कभी समझी ही नही।

दिल लगा बैठा मेरा दिल उसके दिल के साथ,
पर वो मेरे दिल को कभी समझी ही नही।

उसकी याद में रो कर बन गया बुरा हाल,
वो मेरे इस हाल को कभी समझी ही नही।

कर दिया”मंदीप” ने सब कुछ कुर्बान उस की हसरत में,
फिर भी वो पगली मेरे प्यार को समझी ही नही।

मंदीपसाई

122 Views
You may also like:
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H.
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
गुरु तुम क्या हो यार !
The jaswant Lakhara
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
Loading...