Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

” ————————————– अरमानों का खेला ” !!

थोड़ा सा विश्राम दूं तन को , मन भी लगे थकेला !
काटे से कटते ना दिन है , समय बड़ा अलबेला !!

सज़ धज कर श्रृंगार किया है , बाट जोहती आंखें !
अंतर्मन की चाहत को है , तुमने पल पल ठेला !!

संदेशों से पा जाते हैं , ऊर्जा नई नई सी !
तुम आये तो सज़ जाता है , अरमानों का खेला !!

ताने खूब सुना करते हैं , आँचल कोरा कोरा !
लक्ष्य तुम्हारा लिये सामने , कठिन लगे है बेला !!

सेवा भाव बन्धा है पल्लू , मोल कोइ ना जाने !
कमजोरों को खाने पढ़ते , यहां सदा ही ढेला !!

शिक्षा दीक्षा गांठ बन्धी है , यही काम बस आवे !
चतुर जनों के पास भीड़ है , हम तो रहे अकेला !!

अल्हड़ता खोयी खोयी है , गुमसुम है खुशहाली !
यहां प्रतीक्षित अभी लगे है , परिवर्तन का रेला !!

मुस्कानों के तीर जगाकर , अपनी पीर भुला दूं !
तुम आये तो लग जायेगा , उम्मीदों का मेला !!

1 Comment · 360 Views
You may also like:
💔💔...broken
Palak Shreya
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
सुन्दर घर
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
पिता
Kanchan Khanna
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बोझ
आकांक्षा राय
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...