Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

अमृता प्रीतम का रचना-संसार

ज्ञानपीठ पुरस्कृत व पद्म विभूषण से अलंकृत ‘अमृता प्रीतम’ के प्रसंगश: कहना यही है कि-
“सच कहती है दुनिया,
इशक पर किसी का जोर नहीं….”
–प्रेम की प्रतीक पंजाबी कवयित्री व लेखिका अमृता प्रीतम ‘सदाबहार’ थी, विकिपीडिया के अनुसार- अमृता प्रीतम का रचना-संसार अनोखी है, यथा-

■संस्मरण:-
कच्चा आंगन, एक थी सारा।
■उपन्यास:-
डॉक्टर देव (1949)- (हिन्दी, गुजराती, मलयालम और अंग्रेज़ी में अनूदित),
पिंजर (1950) – (हिन्दी, उर्दू, गुजराती, मलयालम, मराठी, अंग्रेज़ी और सर्बोकरोट में अनूदित),
आह्लणा (1952) (हिन्दी, उर्दू और अंग्रेज़ी में अनूदित),
आशू (1958) – हिन्दी और उर्दू में अनूदित,
इक सिनोही (1959) हिन्दी और उर्दू में अनूदित,
बुलावा (1960) हिन्दी और उर्दू में अनूदित,
बंद दरवाज़ा (1961) हिन्दी, कन्नड़, सिंधी, मराठी और उर्दू में अनूदित,
रंग दा पत्ता (1963) हिन्दी और उर्दू में अनूदित,
इक सी अनीता (1964) हिन्दी, अंग्रेज़ी और उर्दू में अनूदित,
चक्क नम्बर छत्ती (1964) हिन्दी, अंग्रेजी, सिंधी और उर्दू में अनूदित,
धरती सागर ते सीपियाँ (1965) हिन्दी और उर्दू में अनूदित,
दिल्ली दियाँ गलियाँ (1968) हिन्दी में अनूदित,
एकते एरियल (1969) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
जलावतन (1970)- हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
यात्री (1971) हिन्दी, कन्नड़, अंग्रेज़ी बांग्ला और सर्बोकरोट में अनूदित,
जेबकतरे (1971), हिन्दी, उर्दू, अंग्रेज़ी, मलयालम और कन्नड़ में अनूदित,
अग दा बूटा (1972) हिन्दी, कन्नड़ और अंग्रेज़ी में अनूदित,
पक्की हवेली (1972) हिन्दी में अनूदित,
अग दी लकीर (1974) हिन्दी में अनूदित,
कच्ची सड़क (1975) हिन्दी में अनूदित,
कोई नहीं जानदाँ (1975) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
उनहाँ दी कहानी (1976) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
इह सच है (1977) हिन्दी, बुल्गारियन और अंग्रेज़ी में अनूदित,
दूसरी मंज़िल (1976) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
तेहरवाँ सूरज (1978) हिन्दी, उर्दू और अंग्रेज़ी में अनूदित,
उनींजा दिन (1979) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित,
कोरे कागज़ (1982) हिन्दी में अनूदित,
हरदत्त दा ज़िंदगीनामा (1982) हिन्दी और अंग्रेज़ी में अनूदित
■आत्मकथा:-
रसीदी टिकट (1976)
■कहानी संग्रह:-
हीरे दी कनी, लातियाँ दी छोकरी, पंज वरा लंबी सड़क, इक शहर दी मौत, तीसरी औरत सभी हिन्दी में अनूदित।
■कविता संग्रह:-
लोक पीड़ (1944), मैं जमा तू (1977), लामियाँ वतन, कस्तूरी, सुनहुड़े (साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त कविता संग्रह तथा कागज़ ते कैनवस ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त कविता संग्रह सहित 18 कविता संग्रह।
■गद्य कृतियाँ:-
किरमिची लकीरें, काला गुलाब, अग दियाँ लकीराँ (1969),
इकी पत्तियाँ दा गुलाब, सफ़रनामा (1973),
औरतः इक दृष्टिकोण (1975), इक उदास किताब (1976),
अपने-अपने चार वरे (1978), केड़ी ज़िंदगी केड़ा साहित्य (1978),
कच्चे अखर (1979), इक हथ मेहन्दी इक हथ छल्ला (1980),
मुहब्बतनामा (1980), मेरे काल मुकट समकाली (1980),
शौक़ सुरेही (1981), कड़ी धुप्प दा सफ़र (1982),
अज्ज दे काफ़िर (1982) सभी हिन्दी में अनूदित।

3 Likes · 292 Views
You may also like:
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
तेरा ज़िक्र।
Taj Mohammad
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
इश्क के आलावा भी।
Taj Mohammad
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
दिल पूछता है हर तरफ ये खामोशी क्यों है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई ना मुश्किल-कुशा मिल रहा है।
Taj Mohammad
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
कृष्णा आप ही...
Seema 'Tu haina'
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा
मुन्ना मासूम
मेरे सनम
DESH RAJ
✍️ सर झुकाया नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
पता नहीं तुम कौनसे जमाने की बात करते हो
Manoj Tanan
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
पिता
Meenakshi Nagar
“सावधान व्हाट्सप्प मित्र ”
DrLakshman Jha Parimal
"शौर्य"
Lohit Tamta
मौसम की तरह तुम बदल गए हो।
Taj Mohammad
Loading...