Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 25, 2022 · 4 min read

*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*

*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*

हुआ यह है कि जब हमारा कविताओं वाला लोहे का संदूक भर गया तो हमने सोचा कि इसे खाली किया जाए और कविताओं को किसी प्रकाशक को बेचकर कुछ पैसे कमाने का जुगाड़ किया जाए। श्रीमती जी संदूक खाली करने के विचार से उत्साहित थीं ,लेकिन कविताओं की बिक्री के प्रश्न पर उनका कहना था ” तुम अपनी कविताओं को बेचने जाओगे या खरीदने ? ”
हमने पूछा “क्या मतलब ? ” वह कहने लगीं ” पहेलियां मत बुझाओ । लड़की की शादी में मैं दहेज के इंतजाम में जुटी हूँ। लड़का उच्च शिक्षा के लिए फीस भरने के बारे में दिन-रात सोचकर दुबला हो रहा है। और तुम्हें अपनी कविताओं की किताब छपवाने की पड़ी है । प्रकाशक तुम्हें पैसे नहीं देगा बल्कि उल्टे किताब छापने के तुमसे पैसे वसूल करेगा । ”
हमने कहा “अब राजा – महाराजाओं का युग तो रहा नहीं ,अन्यथा एक छंद पर एक सोने की अशर्फी राजदरबार में कवियों को मिला करती थी । अब अधिक नहीं तो चांदी का एक सिक्का एक छंद के बदले में मिलने की आशा मैं कर रहा हूं ।”
पत्नी मुस्कुराने लगीं। हम कविताओं को गिनने लगे । एक सौ कविताओं को हमने एक डोरे से बांधना शुरू किया । एक बंडल बन गया । इसी तरह हम बंडल बनाते गए। कुल मिलाकर पंद्रह बंडल बने अर्थात कविताओं की संख्या कुल पंद्रह सौ थी । अब हमने सारे बंडलों को मिलाकर एक महाबंडल बना दिया।
कविताओं का महाबंडल बहुत ज्यादा भारी नहीं था । आसानी से हमने उसे अपने दोनों हाथों पर उठा लिया । घर से निकले। रिक्शा पर बैठे और रिक्शा वाले से कहा “पीछे की सीट पर किसी को मत बिठाना। हमारे पास कीमती वस्तु है ।”
रिक्शा वाले ने उपदेशात्मक लहजे में जवाब दिया “कीमती चीजें जेब में संभाल कर रखा करो ।आजकल जेबकतरे बहुत घूम रहे हैं ।”
हमने कहा “हम जेब की बात नहीं कर रहे हैं । हमारे हाथों में बेशकीमती संपदा है।”सुनकर रिक्शा वाले ने एक उड़ती हुई नजर कविताओं के महाबंडल की तरफ डाली और उदासीनता से रिक्शा आगे बढ़ाने लगा ।
समय की मार देखिए ,रिक्शा में पंचर हो गया और रिक्शा रुकी भी तो कल्लू कबाड़ी वाले की दुकान के ठीक सामने । हम अक्सर घर के अखबार कल्लू कबाड़ी वाले को लाकर बेच दिया करते थे । हमारे हाथ में कविताओं का महाबंडल देखते ही दूर से चीखा ” मास्टर जी ! आज अखबार के बदले यह कापियों की रद्दी कहां से ले आए ? इसका भाव छह रुपए किलो है । आपको सात रुपए किलो लगा दूंगा ।” सुनकर हमारे तन-बदन में आग लग गई ।
हमने कहा “तुम ठहरे दो हजार इक्कीस के हाईस्कूल पास ! तुम भला हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि का मूल्य कैसे आँक सकते हो ? जिसे तुम रद्दी कह रहे हो ,वह सोना और चांदी है ।”
कल्लू कबाड़ी वाला हमारी बात का कोई मतलब नहीं समझा । वह दूसरे ग्राहकों से बात करने में व्यस्त हो गया । आजकल किसके पास समय है कि वह चीजों की गहराई में जाकर उन्हें समझता फिरे !
खैर , हमने दूसरी रिक्शा पकड़ी और प्रकाशक-मंडी में जाकर एक अच्छे प्रकाशक से उसकी दुकान पर बात की। प्रकाशक ने पूछा “कितनी कविताएं हैं ? ”
हमने कहा “पंद्रह सौ हैं।” वह बोला “पचास हजार का खर्चा आएगा।”
हमने पूछा “आप का खर्चा आएगा या हमारा खर्चा आएगा ? ”
प्रकाशक बोला “जब किताब आप छपवाएंगे तो आपका खर्चा आएगा । ”
हमने कहा “चलो , हम कॉपीराइट भी आपको बेच देंगे ।”
वह बोला ” उसको क्या शहद लगाकर चाटुँगा ? आजकल कविताएं कौन पढ़ता है ? चार किताबों के बाद कविता की पांचवी किताब नहीं बिकती । ”
हमारे सिर पर तो घड़ों पानी गिर गया। सारे सपने धरे के धरे रह गए । हमने रुँआसे होकर प्रकाशक से कहा “हमारी कविताएं हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि हैं। आज भले ही इनका मूल्यांकन न हो पा रहा हो, लेकिन सौ -दो सौ साल के बाद कोई इनको समझने वाला जन्म लेगा और तब यह बहुमूल्य वस्तु के रूप में स्थापित होंगी।”
प्रकाशक ने व्यंग्य-पूर्वक मुस्कुराते हुए कहा “आप दो-तीन सौ साल की अपनी उम्र कर लीजिए। हो सकता है आपके जीवन काल में ही कोई काव्य- पारखी पैदा हो जाए ।”
हमें बुरा तो बहुत लगा लेकिन संयम बरतते हुए हमने कहा “ठीक है ,तो हम चलते हैं । इतना रुपया तो हम खर्च नहीं कर सकते।”
प्रकाशक टोक कर बोला “एक राय दूं । बुरा मत मानना । ”
हमने जलते – भुनते हुए कहा “अब बुरा मानने को जिंदगी में रह ही क्या गया है ?”
उसने एक किताब अपनी अलमारी में से निकाली और हमसे कहा “रुपए कमाने के एक सौ सरल उपाय -नाम की यह पुस्तक आप मुझसे खरीद लीजिए । वैसे तो चार सौ रुपए की है लेकिन आपको पचास प्रतिशत डिस्काउंट पर मात्र दो सौ रुपए में बेच दूंगा ।”
हमने कहा “भाई साहब ! हम यहां कुछ कमाने के लिए आए थे और आप हमसे जाते-जाते दो सौ रुपए हमारी जेब से निकलवाना चाहते हैं ? यह हम से नहीं होगा।”
उसके बाद हम अपनी हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि लेकर अपने घर वापस आ गए। देखा तो संदूक पर श्रीमती जी का कब्जा हो चुका था । उसमें उनकी साड़ियां बगैरह रखी थीं। हमने निवेदन किया ” संदूक में हम फिर से अपनी हिंदी साहित्य की अमूल्य निधि की पांडुलिपियों को सुरक्षित रखना चाहते हैं?”
वह बोली ” दस-बारह रुपए किलो में इसे बेच दो ,तो पिंड छुटे । वरना किसी दिन पूरे घर में दीमक लग जाएगी ।”
हम भीतर से रो रहे थे । हे भगवान !हमारी कविताएं क्या सचमुच दस-बारह रुपए किलो की रद्दी ही हैं ?
________________________________
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

40 Views
You may also like:
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
देख कर
Dr fauzia Naseem shad
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
ये चिड़िया
Anamika Singh
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
बेजुबान
Anamika Singh
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्शन शास्त्र के ज्ञाता, अतीत के महापुरुष
Mahender Singh Hans
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️जिंदगी की सुबह✍️
'अशांत' शेखर
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूख सी बेबसी नहीं देखी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...