Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

अमर रहे गणतंत्र हमारा

तीन लोक तक फहराये तिरंगा;
मान रहा जग सारा अमर रहे गणतंत्र हमारा|
सदा सजग है इसके प्रहरी;
उन्नत गगन तक ध्वजा है फहरी;
गणतंत्र का रखवारा अमर रहे गणतंत्र हमारा|
विजयी विश्व तिरंगा प्यारा ;
लगता है जयघोष तुम्हारा;
सबको लगता प्यारा अमर रहे गणतंत्र हमारा|
केशरिया त्याग शौर्य बताता,
श्वेत शांति का पाठ पढाता,
हरा रंग खुशियां फैलाता अमर रहे गणतंत्र हमारा
चक्र मध्य मे प्रगति बताता,
भारत की नित उन्नति दर्शाता,
मान रहा है जहान सारा अमर रहे गणतंत्र हमारा |

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विन्ध्यप्रकाश मिश्र

788 Views
You may also like:
मेरे साथी!
Anamika Singh
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
आदर्श पिता
Sahil
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...