Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 3 min read

🚩अमर कोंच-इतिहास

🧿मुक्तक
……..
🥎
कोंच भी आनंद-पथ सह ध्यान है ।
क्रौंच ऋषि -आलोक का प्रतिमान है ।
राष्ट्रहित में बढे पग, फिर ना रुके ।
वीरता के गान का सोपान है ।

🥎
राष्ट्हित में वीरता के हाथ बन ।
झाँसी की रानी के थे सब साथ जन ।
लड़े पृथ्वीराज,बैरागढ पहुँच ।
चौंड़िया था साथ,बल का क्वाथ बन ।

🧿गीत
……
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
महायुद्ध की शंका आये चंद्रभाट सँग भूप ।
क्रौंच सु ऋषि-तपभू खुदवायी, समरभूमि -अनुरूप ।
चंद्रभाट कवि-कूप के लिए पत्थर लिया तराश ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा, संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
झील बँट गई दो तालों में,अब भी हैं अवशेष ।
ताल भुॅजरया इक तो दूजा चौड़ा ताल ‘ बृजेश ‘।
बारह खंभा,1️⃣’बड़ माता-गृह’ का भी हुआ विकास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
सैन्य प्रशिक्षण चरमरूप पर लड़ते ज्यों दो राज ।
2️⃣’बैरागढ’ रणभूमि बनेगी,पहनू विजयी ताज ।
सीखें सभी वीर रण-कौशल, करें जीत की आश ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
वीरों ने स्व ध्वज फहराया महायुद्ध के पहले ।
बावन गढों का रण होगा, सुनकर के दिल दहले ।
महायुद्ध के खातिर कीन्हा दिल्ली-भूप-प्रवास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा ,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
सारी पैदल सैना 3️⃣’निरझर सागर’, निकट खड़ी थी ।
गज, घोडा व हथियारों से धरती पटी पड़ी थी ।
रथ के ऊपर राजा बैठे कोंच हो गई खास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

🥎
दिल्ली के राजा पृथ्वी ने परखे शस्त्र विशेष ।
इसके पहले ‘क्रौंच सु ऋषि’ ने दिया प्रेम-संदेश ।
प्रीतिभाव-सद्ज्ञान -वीरता का है यहाँ प्रकाश ।

अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।
…………….. …………………………………………

1️⃣’बड़ माता-गृह’=बड़़ी माता का मंदिर

(भारतवर्ष में उत्तर प्रदेश प्रांत के जिला-जालौन में स्थित “कोंच नगर” (क्रौंच ऋषि की तपोभूमि) का सबसे प्राचीन मंदिर ,”नरसिंह भगवान” का मंदिर” है| “नरसिंह भगवान” के मंदिर के बाद ,कोंच नगर का दूसरा प्राचीन मंदिर “बड़ी माता का मंदिर”है )

2️⃣’बैरागढ’ = कोंच से एट मार्ग होते हुए,एट के पहले बैरागढ -मार्ग पकड़ कर ‘बैरागढ’ पहुँचा जा सकता है| ‘बैरागढ’ जिला-जालौन ,उ प्र,भारत,मे एट के समीप स्थित है| बैरागढ में माँ शारदा का पावन मंदिर है, इसी मंदिर के आस-पास खाली पड़ी जमीन पर ‘बावन गढ़ की लड़ाई’ हुई थी| इस महा युद्ध में (बावन गढ़ों की लड़ाई में) युधिष्ठिर के अवतार, वीर आल्हा ने जमीन में एक साँग गाड़ दी थी ,जो आज भी गड़ी हुई है | महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठिर एवं भीमसेन के अवतार आल्हा एवं ऊदल की वीरता की खुशी में ,’माँ शारदा’ के मंदिर पर अभी भी प्रति वर्ष मेला लगता है|

3️⃣’निरझर सागर’ =निरझर से मिला हुआ बड़ा तालाब

{बैरागढ के महा संग्राम(बावन गढ की लड़ाई) में चौंड़िया राय की मृत्यु , दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान की पराजय एवं महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठर के अवतार, आल्हा की विजय के बाद ‘निरझर सागर’ चंदेल वंश के राजा श्री परमल/ श्री परमाल (परमर्दिदेव) के शासन में चला गया, परमल/परमाल(परमर्दिदेव) के शासन -काल में ‘निरझर सागर’, निरझर से पृथक हुआ, जो आज भी कोंच,जिला-जालौन, उ प्र, भारतवर्ष में ‘सागर ताल’ के रूप में विद्यमान है |}

-चंदेल वंश के राजा परमल/परमाल( परिमर्दिदेव )की पत्नी ‘मल्हना’ ने महोवा के वीर योद्धा ‘ ऊदल ‘ का पुत्र की तरह पालन-पोषण किया था |
……………………………………………………………

💙’अमर कोंच-इतिहास’ रचना, मेरी कृति/शोधपरक ग्रंथ/खंड काव्य “क्रौंच सु ऋषि आलोक” के द्वितीय संस्करण में पृष्ठ संख्या 63 से 66 तक पढी जा सकती है ।
💙 “क्रौंच सु ऋषि आलोक” कृति का द्वितीय संस्करण साहितयपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित है और अमेजोन – फ्लिप्कार्ट पर उपलब्ध है ।
……………………………………………………

पं बृजेश कुमार नायक
‘जागा हिंदुस्तान चाहिए’, ‘क्रौंच सु ऋषि-आलोक’ एवं ‘पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं’ कृतियों के प्रणेता ।
……………………………………………………

चंदेल वंश के राजा, परमल/परमाल/परिमर्दिदेव का शासन-काल 1165 से 1203 तक रहा
…………………………………………………….

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 2514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
जज़्बा
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
शिक्षक
शिक्षक
Mukesh Kumar Sonkar
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
धम्म चक्र प्रवर्तन
धम्म चक्र प्रवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बदल रहा है देश मेरा
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
Dr fauzia Naseem shad
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
पिता
पिता
Rajiv Vishal (Rohtasi)
तुम भोर हो!
तुम भोर हो!
Ranjana Verma
कुछ तो है उनके प्यार में
कुछ तो है उनके प्यार में
Buddha Prakash
मां के तट पर
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
नशे में मुब्तिला है।
नशे में मुब्तिला है।
Taj Mohammad
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
रविवार
रविवार
Shiva Awasthi
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
*सूझबूझ के धनी : हमारे बाबा जी लाला भिकारी लाल सर्राफ* (संस्मरण)
Ravi Prakash
#नुबारकबाद
#नुबारकबाद
*Author प्रणय प्रभात*
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
तोड़ देना चाहे ,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
Loading...