Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 20, 2018 · 3 min read

अमर कोंच-इतिहास

मुक्तक
……..
कोंच भी आनंद-पथ सह ध्यान है ।
क्रौंच ऋषि -आलोक का प्रतिमान है ।
राष्ट्रहित में बढे पग, फिर ना रुके ।
वीरता के गान का सोपान है ।

राष्ट्हित में वीरता के हाथ बन ।
झाँसी की रानी के थे सब साथ जन ।
लड़े पृथ्वीराज,बैरागढ पहुँच ।
चौंड़िया था साथ,बल का क्वाथ बन ।

गीत
……
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

महायुद्ध की शंका आए चंद्रभाट सँग भूप ।
क्रौंच सु ऋषि-तपभू खुदवायी, समरभूमि -अनुरूप ।
चंद्रभाट कवि-कूप के लिए पत्थर लिया तराश ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा, संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

झील बँट गई दो तालों में,अब भी हैं अवशेष ।
ताल भुजरिंयाँ इक तो दूजा चौड़ा ताल ‘ बृजेश ‘।
बारह खंभा,*’बड़ माता-गृह’ का भी हुआ विकास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

सैन्य प्रशिक्षण चरमरूप पर लड़ते ज्यों दो राज ।
**’बैरागढ’ रणभूमि बनेगी,पहनू विजयी ताज ।
सीखें सभी वीर रण-कौशल, करें जीत की आश ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

वीरों ने स्व ध्वज फहराया महायुद्ध के पहले ।
बावन गढों का रण होगा, सुनकर के दिल दहले ।
महायुद्ध के खातिर कीन्हा दिल्ली-भूप-प्रवास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा ,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

सारी पैदल सैना ***’निरझर सागर’ निकट खड़ी थी ।
गज, घोडा व हथियारों से पटी हुई धरती थी ।
रथ के ऊपर राजा बैठे कोंच हो गई खास ।
अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।

दिल्ली के राजा पृथ्वी ने परखे शस्त्र विशेष ।
इसके पहले ‘क्रौंच सु ऋषि’ ने दिया प्रेम-संदेश ।
प्रीतिभाव-सद्ज्ञान -वीरता का है यहाँ प्रकाश ।

अमर कोंच-इतिहास यहाँ पर पृथ्वीराज-निवास,
रहा,संग में चंद्रभाट ने आकर किया प्रवास ।
…………….. …………………………………………

*’बड़ माता-गृह’=बड़़ी माता का मंदिर

(भारतवर्ष में उत्तर प्रदेश प्रांत के जिला-जालौन में स्थित “कोंच नगर” (क्रौंच ऋषि की तपोभूमि) का सबसे प्राचीन मंदिर ,”नरसिंह भगवान” का मंदिर” है| “नरसिंह भगवान” के मंदिर के बाद ,कोंच नगर का दूसरा प्राचीन मंदिर “बड़ी माता का मंदिर”है )

**बैरागढ = कोंच से एट मार्ग होते हुए,एट के पहले बैरागढ -मार्ग पकड़ कर ‘बैरागढ’ पहुँचा जा सकता है| ‘बैरागढ’ जिला-जालौन ,उ प्र,भारत,मे एट के समीप स्थित है| बैरागढ में माँ शारदा का पावन मंदिर है, इसी मंदिर के आस-पास खाली पड़ी जमीन पर ‘बावन गढ़ की लड़ाई’ हुई थी| इस महा युद्ध में (बावन गढ़ों की लड़ाई में) युधिष्ठिर के अवतार, वीर आल्हा ने जमीन में एक साँग गाड़ दी थी ,जो आज भी गड़ी हुई है | महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठिर एवं भीमसेन के अवतार आल्हा एवं ऊदल की वीरता की खुशी में ,’माँ शारदा’ के मंदिर पर अभी भी प्रति वर्ष मेला लगता है|

***’निरझर सागर’ =निरझर से मिला हुआ बड़ा तालाब

{बैरागढ के महा संग्राम(बावन गढ की लड़ाई) में चौंड़िया राय की मृत्यु , दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान की पराजय एवं महोवा के वीर योद्धा ,युधिष्ठर के अवतार, आल्हा की विजय के बाद ‘निरझर सागर’ चंदेल वंश के राजा श्री परमल/ श्री परमाल (परमर्दिदेव) के शासन में चला गया, परमल/परमाल(परमर्दिदेव) के शासन -काल में ‘निरझर सागर’, निरझर से पृथक हुआ, जो आज भी कोंच,जिला-जालौन, उ प्र, भारतवर्ष में ‘सागर ताल’ के रूप में विद्यमान है |}

-चंदेल वंश के राजा परमल/परमाल( परिमर्दिदेव )की पत्नी ‘मल्हना’ ने महोवा के वीर योद्धा ‘ ऊदल ‘ का पुत्र की तरह पालन-पोषण किया था |
……………………………………………………………

‘अमर कोंच-इतिहास’ रचना, मेरी कृति/शोधपरक ग्रंथ/खंड काव्य “क्रौंच सु ऋषि आलोक” के द्वितीय संस्करण में पृष्ठ संख्या 63 से 66 तक पढी जा सकती है ।
“क्रौंच सु ऋषि आलोक” कृति का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिप्कार्ट पर उपलब्ध है ।
……………………………………………………

पं बृजेश कुमार नायक
‘जागा हिंदुस्तान चाहिए’, ‘क्रौंच सु ऋषि-आलोक’ एवं ‘पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं’ कृतियों के प्रणेता ।
……………………………………………………

चंदेल वंश के राजा, परमल/परमाल/परिमर्दिदेव का शासन-काल 1165 से 1203 तक रहा
…………………………………………………….

1 Like · 1 Comment · 1330 Views
You may also like:
पिता
Satpallm1978 Chauhan
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
मोहब्बत में दिल।
Taj Mohammad
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
यादें आती हैं
Krishan Singh
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...