#28 Trending Author
May 12, 2022 · 1 min read

अभी बचपन है इनका

शीर्षक – अभी बचपन है इनका
———————————————–
अभी बचपन है इनका।
नहीं बनाओ मजदूर इनको।।
उम्र पढ़ने की है इनकी।
अभी पढ़ने दो इनको।।
अभी बचपन है—————–।।

हाथ कोमल है इनके।
मासूम चेहरे है इनके।।
शरीर नाजुक है इनका।
खेलने दो अभी इनको।।
अभी बचपन है —————–।।

मत डालो इनपे ,भार परिवार का।
सपना चुनने दो इनको,इनके संसार का।।
मजदूरी के लायक, ये अभी नहीं।
इनकी मंजिल, चुनने दो इनको।।
अभी बचपन है ———————–।।

बाल मजदूरी, एक महापाप है।
बालविवाह भी , एक अभिशाप है।।
इन फूलों को , अभी खिलने दीजिए।
गृहस्थी में , नहीं बांधों इनको।।
अभी बचपन है ——————–।।

साहित्यकार एवं शिक्षक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

34 Views
You may also like:
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
एक संकल्प
Aditya Prakash
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
वार्तालाप….
Piyush Goel
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
* उदासी *
Dr. Alpa H.
"ईद"
Lohit Tamta
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
शेर राजा
Buddha Prakash
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
पिता
Deepali Kalra
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
किसान
Shriyansh Gupta
Loading...