Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-221💐

अभी तक कोई निसाँ नहीं भेजा गया है,
अभी तक ख़्याल से दिल तोडा गया है।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Tu itna majbur kyu h , gairo me mashur kyu h
Sakshi Tripathi
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता : व्रीड़ा
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
वह है बहन।
वह है बहन।
Satish Srijan
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्रकृति से हम क्या सीखें?
प्रकृति से हम क्या सीखें?
Rohit Kaushik
245.
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
*बरसात (पाँच दोहे)*
*बरसात (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
ख़्याल रखें
ख़्याल रखें
Dr fauzia Naseem shad
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
💐💐मेरे हिस्से में.........💐💐
💐💐मेरे हिस्से में.........💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खामोशियों ने हीं शब्दों से संवारा है मुझे।
खामोशियों ने हीं शब्दों से संवारा है मुझे।
Manisha Manjari
मुस्कुराना सीख लो
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
बेटी की विदाई
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
दिल चाहता है...
दिल चाहता है...
Seema 'Tu hai na'
क्यूँ ख़्वाबो में मिलने की तमन्ना रखते हो
क्यूँ ख़्वाबो में मिलने की तमन्ना रखते हो
'अशांत' शेखर
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
क्या ज़रूरत थी
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिया और हवा
दिया और हवा
Anamika Singh
Loading...