Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 1 min read

अभी चेहरे पर हिजाब रहने दो

अभी चेहरे पर हिजाब रहने दो
उसे बंद किताब रहने दो

सवाल है ढेरों किताब में
सवाल अभी राज़ रहने दो

चांद तारों से भरी रात बाकी है
बोतल में बंद शराब रहने दो

मुक्कमल नही हुई गुफ्तगू
बाकी अभी रात रहने दो

टूट गए हो जब सपने सारे
आँखों में वो ख्वाब रहने दो

तिश्र्गी जब तक बूझे नही
आब की तलाश रहने दो

मंजिल दूर ही सही मिलेगी जरूर
हार कर भी शेष अभी प्रयास रहने दो

आज है ज़िन्दगी जी लो हर पल
असफार में अज़ाब की रात रहने दो

शुष्क है मरुस्थल यहाँ कब से
मरुस्थल में अभी बरसात रहने दो

बेसुध है खुमार में ग़ालिब उनके
हाथ में जाम का गिलास रहने दो

जल रहा है आग में उनकी आज तक
भूपेंद्र को होता यूँ ही ख़ाक रहने दो

भूपेंद्र रावत
6/09/2017

1 Like · 247 Views
You may also like:
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पिता
Buddha Prakash
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
यादें
kausikigupta315
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
पिता
Deepali Kalra
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
इंतजार
Anamika Singh
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
Green Trees
Buddha Prakash
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...